Home विदेश आख़िरकार चीनी रोकेट धरती पर आ ही गई. क्या चीन आने वाले...

आख़िरकार चीनी रोकेट धरती पर आ ही गई. क्या चीन आने वाले तबाही को छुपा रहा?

0
China Rocket

Chinese media Agency: चीन (China)की रॉकेट धरती पर गिरने वाली है कल तक ये ख़बरे आ रही थी. पर चीन ने आज ऐसा कर दिखाया चीन के अनियंत्रित रॉकेट (Uncontrolled Rocket) का मलबा आखिरकार धरती (Earth) पर गिर गया. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक चीन के 18 टन का लॉन्ग मार्च 5बी नामका ये रॉकेट हिंद महासागर में गिरा है. हालांकि अभी तक ये पता नहीं चल सकता है कि रॉकेट के गिरने के बाद कितना नुकसान हुआ है. चीनी मीडिया ने बताया कि लांग मार्च 5बी रॉकेट के कुछ हिस्सों ने सुबह 10:24 बजे बीजिंग (Beijing) समय में वायुमंडल में प्रवेश किया और एक स्थान पर गिरे. रॉकेट के जो हिस्‍से गिरे हैं वह 72.47 डिग्री पूर्वी और अक्षांश 2.65 डिग्री उत्तर में स्थित है. निर्देशांक ने भारत और श्रीलंका के दक्षिण-पश्चिम (Southwest) में समुद्र में प्रभाव के बिंदु को रखा. साथ ही कहा गया कि अधिकांश मलबा वायुमंडल (Atmosphere) में जल गया था. बता दें कि जब से इस बात की जानकारी मिली थी कि चीन की ओर से अंतरिक्ष में भेजा गया एक बड़ा रॉकेट अनियंत्रित होकर खो गया है तब से अंतरिक्ष विज्ञानी इस बात को लेकर चिंतित थे कि रॉकेट कहां पर जाकर गिरेगा. लेकिन रॉकेट वही पर गिरा जहॉ वैज्ञानिक चाहते थे.

हालांकि नुकसान होने को लेकर चीन के विदेश मंत्रालय ने पहले ही दावा किया था कि रॉकेट का कचरा नुकसान दाई नहीं होगा. इसके पृथ्वी के वातावरण में आने के दौरान ही अधिकांश हिस्सा जल जाएगा. चीन ने Long March 5B Y2 को 29 अप्रैल को लॉन्च किया था. इसके जरिये चीन अंतरिक्ष में नया स्पेस स्टेशन बनाना चाहता था. यह धरती के ऊपर 170 किलोमीटर से 372 किलोमीटर की ऊंचाई के बीच तैर रहा है. चीनी रिपोर्ट के मुताबिक ऐसा कहा गया.

चीनी वैज्ञानिको ने पहले हि प्लान किया था कि इस रॉकेट के जरिये स्पेस में टाईगौंग (Tiangong) नाम का चीनी स्पेस स्टेशन बनाया जाएगा, जो 2022 तक पूरा हो जाएगा. इसके बाद ये स्पेस स्टेशन पृथ्वी के चक्कर लगाकर पृथ्वी की जानकारी स्पेस से देगा. लेकिन अब ख़बर है कि ये रॉकेट अपना कंट्रोल खो चुका है और इसके मलबे कई देशों पर गिरकर तबाही मचा सकते हैं. एक्सपर्ट्स के मुताबिक, चीन को भी इसकी जानकारी है लेकिन अभी तक उसने इसे लेकर कोई चेतावनी जारी नहीं की है. अब देखना होगा कि चीन कब तक इसकी रिपोर्ट सारे देशों तक पहु़ँचाता है.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here