ई दिल्ली: अफगानिस्तान में एक बार फिर से तालिबान कि खतरनाक वापसी हो चुकी है। रविवार को तालिबान ने जबरन काबुल पर कब्जा कर लिया है। इसके बाद ही देश के राष्ट्रपति अशरफ गनी देश छोड़कर भाग चुका है। भारत समेत अन्य देशों के लोग जो तालिबान के कारण अफगानिस्तान में फसें है, अब उनको निकालने के प्रयास किए जा रहे है। इसके लिए कई विमानों ने उड़ान भरी है और भारत कि पहली फ्लाइट ने आज सुबह ही लैंड किया है। अफगानिस्तान से आए भारतीय नागरिकों में से एक है, अरफा जो मजार-ए-शरीफ की रहने वाली है। उन्होनें बताया है कि तालिबान भले ही दावें कर रहा हो कि वो शांति से काम करेगा लेकिन वहां की महिलाओं में यह डर है कि पहले की ही तरह तालिबान फिर से अत्याचार करेगा।

अरफा ने महिलाओं पर किए गए जुल्मों को बताते हुए कई राज खोलें है। उन्होंने बताया जब 2000 के आस पास अफगानिस्तान में तालिबान ने अपने कदम रखें थे, तो शुरुआत में तालिबान बहुत अच्छा था, पर धीरे-धीरे उसनें अपने असली रंगों को दिखाना शुर कर दिया था। उस वक्त महिलाओं के साथ-साथ युवा लड़कियों पर भी बहुत से अत्याचार हुए थे। अरफा ने बताया है कि उस समय तालिबान के लड़ाके आते थे, लड़कियों को उठाते थे और जबरन शादी कर लेते थे। साथ ही गलत काम करते थे और छोड़ देते थे। उसके बाद से किसी भी महिला का इन पर भरोसा नहीं हुआ।

अब की बात करें तो अरफा ने बताया है कि अभी भी वहां कि महिलाएं डरी हुई है। बिना किसी के साथ घर से बाहर नहीं निकल रही हैं। अरफा कहती है कि तालिबान की वापसी किसी भी महिला के लिए बुरे सपने से कम नहीं है। साथ ही अरफा ने राष्ट्रपति पर आरोप लगाते हुए कहा है कि,”अशरफ गनी ने अपने देश को बेच दिया है।”

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *