Varun Singh Death News: नहीं रहें ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह.

0
varun singh death
varun singh death

नई दिल्ली: 8 दिसंबर को तमिलनाडु (Tamilnadu) के कुन्नूर (Kunnur) में इंडियन एयर फोर्स (Indian Air Force) विमान क्रैश में घायल हुए ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह (Group Captain Varun Singh) ने भी बुधवार करीबन 12:00 बजे दम तोड़ दिया है। आपको बता दें इस बात की पुष्टि इंडियन एयर फोर्स के ट्विटर हैंडल पर जारी किए गए ट्वीट से मिली है। इस घटना में सीडीएस बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) समेत चॉपर में 13 अन्य लोग शामिल थे। जिसमें से 13 लोगों लोगों के निधन की पुष्टि 8 दिसंबर को की जा चुकी थी। हादसे में सिर्फ वरुण सिंह ही अकेले बच पाए थे।

आईएएस के द्वारा किए गए ट्वीट के अनुसार भारतीय एयरफोर्स ने ये कहा है कि, “भारतीय एयर फोर्स को ये बताते हुए काफी दुख हो रहा है कि ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह का इलाज चल रहा था। जिस दौरान आज उनका निधन हो गया है। “एयरफोर्स अफसर उनके निधन पर संवेदनाएं व्यक्त करते हैं और उनके परिवार के साथ मजबूती से खड़े हैं।

जानें वरुण सिंह के बारे में कुछ खास बातें:
आपको बता दें ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के पूर्वांचल क्षेत्र (Purvanchal) के देवरिया (Deoria) के खोरमा कन्हौली गांव (Village Khorma Kanhauli) के रहने वाले थे। उनका जन्म भारत की राजधानी दिल्ली (Delhi) में हुआ था। वरुण के परिवार के अन्य सदस्य भी भारत की रक्षा करने में अहम भूमिका निभा रहे हैं।

इनके पिता कृष्ण प्रताप सिंह (Krishna Pratap Singh) सेना मैं रह चुके हैं। साथ ही वो कर्नल (Coloneal)  पद से रिटायर्ड है। वरुण सिंह के छोटे भाई तनुज सिंह (Tanuj Singh) मुंबई, महाराष्ट्र (Mumbai, Maharashtra) में नेवी (Navy) में है। उनकी पत्नी का नाम गीतांजलि (Geetanjali) है। उनके दो बच्चें हैं: बेटा रिद रमन और बेटी आराध्या।

आपको बता दें वरुण सिंह ने पहले ही प्रयास में राष्ट्रीय रक्षा अकादमी (National Defence Academy) की परीक्षा पास कर ली थी। अक्टूबर 2020 में, विंग कमांडर के रूप में वरुण ने खराब एलसीए तेजस विमान (LCA Tejas Aircraft) को 10,000 फीट से हवा में सुरक्षित रूप से उतारा था। जिसमें कई लोगों की जान बच गई थी।

भारतीय वायु सेना (Indian Air Force) के ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह को इस लिए 15 अगस्त, 2021 को शॉर्य चक्र (Shaurya Chakra) से सम्मानित किया गया था। गगनयान स्पेस प्रोग्राम (Gaganyaan Space Program) के लिए 12 लोगों को चुना गया था। जिसमें वरुण सिंह भी शामिल थे लेकिन तबीयत ठीक ना होने के कारण वो इसका हिस्सा नहीं बन पाए थे।

Varun Singh Death News

जानें कब और कहा हुआ हादसा?
खबरों के मुताबिक एयरफोर्स के एमआई 17 (MI7) हेलिकॉप्टर ने सुलूर एयरबेस (Sulur Airbase) से करीबन 11 बज के 48 मिनट पर उड़ान भरी थी। जिसका वेलिंगटन (Wallington) में लैंड होने का आधिकारिक समय 12:15 बजे था लेकिन करीबन 12 बज के 8 मिनट पर ये खबर आई कि विमान क्रैश हो गया है। इस घटना के संबंध में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Defence Minister Rajnath Singh) ने 9 दिसंबर को संसद में औपचारिक घोषणा की थी।

विमान का डाटा रिकॉर्डर 9 दिसंबर को सुबह बरामद किया गया था। जिसके बाद एओसी-इन-सी ट्रेंनिंग कमांड (AOC-in-C Training Command) एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह (Air Marshal Manavendra Singh) की अध्यक्षता में आईएएफ द्वारा एक ट्राई सर्विस कमिशन (Tri-Service Comission) की स्थापना की गई थी।

आपको बता दें इस विमान में सीडीएस बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat), उनकी पत्नी मधुलिका रावत (Madhulika Rawat), ब्रिगेडियर एल एस लिड्डर (Brig LS Lidder), कर्नल हरजिंदर सिंह (Col Harjinder Singh), लांस नायक विवेक कुमार (L/Nk Vivek Kumar), नायक गुरुसेवक सिंह (Nk Gursewak Singh), लांस नायक बी साई तेजा (L/Nk B. Sai Teja), नायक जितेंद्र कुमार (Nk Jitender), हवलदार सतपाल राई (Hawaldaar Satpal Singh), विंग कमांडर पीएस चौहान (Wing CDR PS Chauhan), स्क्वॉड्रन लीडर कुलदीप सिंह (Sqn Ldr Kuldeep Singh), जेडब्ल्यूओ राणा प्रताप दास (JWO Rana Pratap Das), जेडब्ल्यूओ प्रदीप (JWO Pradeep) और ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह (Grp Cpt Varun Singh) यात्रा कर रहे थे। जिसमें से सभी की मृत्यु 8 दिसंबर को हो गई थी। लेकिन आज ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह ने भी इस दुनिया को अलविदा कह दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here