UP Election 2022: राजनीतिक रैलियों और रोड शो में कोई ढील नहीं?

election commision latest news
election commision latest news

शामभवी शाही, नई दिल्ली: शनिवार 15 जनवरी को केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव और चुनाव आयोग की एक बैठक हुई थी। इस बैठक का मकसद रैलियों और प्रचारों पर से प्रतिबंध हटाने के विषय पर विचार और विमर्श करना था। चुनाव आयोग ने 8 जनवरी को राजनीतिक रैलियों पर 15 जनवरी तक का प्रतिबंध लगाया था। आज चुनाव आयोग ने केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव मनसुख मंडिविया के साथ हुई बैठक में इसी मुद्दे पर चर्चा की है।

ये भी पढ़े- UP Elections 2022 : राम नगरी छोड़ अपने शहर गोरखपुर से चुनाव लड़ेगे योगी आदित्यनाथ, जानें किसका कटा टिकट

सूत्रों की माने जाए तो बताया जा रहा है कि बातचीत के दौरान किसी ने भी मौजूदा कोरोना वायरस जैसी गंभीर स्थिति में चुनावी रैलियों, रोड शो, मोटरसाइकिल या साइकिल रैलियों जैसे ज्यादा भीड़ एकत्रित करने वाले जुलूसों पर प्रतिबंध में किसी तरह की ढील का समर्थन नहीं किया। बढ़ते कोरोना वायरस के संक्रमण को देखते हुए अंदाज़ा लगाया जा सकता है की चुनाव आयोग और स्वास्थ्य सचिव का इन रैलियों और रोड शो पर प्रतिबंध लगाना और उस प्रतिबंध को आगे बढ़ाना काफी लाज़मी है।

राजनीतिक पार्टियों के लिए यह चुनावी रैलियां और रोड शो बहुत ही ज्यादा महत्व रखते हैं क्योंकि यह प्रचार प्रसार का एकमात्र बड़ा साधन है लेकिन चुनाव आयोग के इन पर प्रतिबंध लगाने के बाद बहुत से राजनीतिक दल अभी तक ठंडे पड़े हुए हैं। गौरतलब है की चुनाव की तारीख अब काफी नज़दीक आती जा रही है। और जैसे जैसे यह तारीख नज़दीक आ रही है वैसे वैसे ही राजनीतिक दलों की बेचैनी और चिंता अलग ही चरण पर पहुंचती जा रही है। ऐसे में अगर रैलियों और रोड शो पर पूर्णतः प्रतिबंध लग जाता है तो राजनीतिक दलों पर वर्चुअली अपने प्रचार प्रसार का ही विकल्प रह जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here