उत्तर प्रदेश में कोरोना के साथ अब ब्लैक फंगस (Black Fungus) कर रही परेशान. युपी के मथुरा (Mathura) में ब्लैक फंगस (Black Fungus) के 3 मामले सामने आए हैं. ब्लैक फंगस के मामले सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया है. जिस तरीके से मथुरा, वृंदावन और राया में ब्लैक फंगस के 3 मामले सामने आए हैं, उसके बाद स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन कोविड-मरीजों की डिस्चार्ज के बाद भी मोनिटरिंग करने की तैयारी में है. ब्लैक फंगस के मामलों में देखने को मिला है कि यह लोग कोविड-पॉजिटिव (Covid-19 Positive) होने के बाद अपने घर चले गए जिसके बाद इन्हें इंफेक्शन ने घेर लिया. वृंदावन के बनखंडी क्षेत्र निवासी 70 वर्षीय मिथलेश देवी कोरोना की चपेट में आईं. जिसके बाद उन्हें ब्लैक फंगस इंफेक्शन ने भी घेर लिया. जिसके कारण उनकी आंखों की रोशनी चली गई. ऐसे ही राया क्षेत्र के रहने वाले एक युवक की ब्लैक फंगस इंफेक्शन के कारण जबड़े में परेशानी हो गई. यानी कि ब्लेक फंगस शरीर के भिन्न-भिन्न हिस्सों पर अटैक करती है.

वो महिला जिनकी आंखो कि रोशनी चली गई उनसे मिलने पहुंचे स्वास्थ अधिकारी जिनमें डॉ भूदेव कोविड-19, नोडल अधिकारी ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग सभी लोगों से संपर्क साधने की पूरी कोशिश कर रहा है, जिसमें से वृंदावन की रहने वाली महिला से स्वास्थ्य विभाग ने संपर्क साध लिया है. वहीं अन्य से संपर्क साधने में विभाग लगा हुआ है. विभाग का कहना है कि जल्द ही उन सब से भी संर्पक हो जाऐगा.

UP government issued advisory

साथ ही आपको ये भी बता दें कि प्रदेश के कई जिलों में अब ब्लैक फंगस के पीड़ित मरीज मिल रहे हैं. इसे देखते हुए आज यूपी सरकार ने एडवाइजरी जारी की है. इसमें कहा कहा गया है कि कोविड-19 संक्रमण के उपरान्त ब्लैक फंगस या म्यूकरमाइकोसिस चेहरे नाक, साइनस, आंख और दिमाग में फैलकर उसको नष्ट कर देती है. इससे आंख सहित चेहरे का बड़ा भाग नष्ट हो जाता है और जान जाने का भी खतरा रहता है. एडवाइजरी में बताया गया है कि किस तरह के लोगों को ज्यादा खतरा है, वहीं इसके लक्षण क्या हैं और क्या सावधानियां मरीज को बरतनी हैं. एडवाइजरी में और भी अधिक जानकारी दी गईं हैं.

Leave a comment

Your email address will not be published.