इस राज्य की महिलाओं ने सरकार के खिलाफ खोला मोर्चा, फिर भाजपा के नेता ने दिया ऐसे जवाब

0
Women Farmer Protest

BKU Ekta Ugrahan की महिला सदस्यों ने फाजिल्का जिले के कथेरा गांव में विरोध प्रदर्शन किया, उसी गॉव में भाजपा नेता सुरजीत कुमार जियानी भी रहते हैं।
पंजाब के कई गांवों ने सोमवार को दिल्ली की सीमाओं पर शक्ति प्रदर्शन के अलावा महिलाओं द्वारा विरोध मोर्चा भी देखा। संयुक्ता किसान मोर्चा के आह्वान पर पंजाब और अन्य राज्यों के सभी किसान संघों द्वारा सोमवार को महिलाओ की शक्ति देख उस दिन को ‘ Women Farmer’s Day’ ’के रूप में मनाया गया।

BKU Ekta Ugrahan की महिला सदस्यों ने फाजिल्का जिले के कथेरा गांव में विरोध प्रदर्शन किया, जहां भाजपा नेता सुरजीत कुमार ज्ञानी रहते हैं। महिलाओं द्वारा विरोध प्रदर्शन बरनाला के धनौला गाँव में भी हुआ जहाँ भाजपा नेता हरजीत सिंह ग्रेवाल का पैतृक घर है। छह जिलें जिसमें – बरनाला, संगरूर, फतेहगढ़ साहिब, मनसा और लुधियाना की महिलाएं धनौला गईं और दस जिले जिसमें- बठिंडा, फिरोजपुर, फाजिल्का, मुल्त्सर, मोगा, फरीदकोट, जालंधर, तरणतारन, अमृतसर और गुरदासपुर की महिलाएं कठेरा गांव गईं।

इस कार्यक्रम में BKU के महासचिव ( General Secretary) सुखदेव सिंह कोकरीकलां ने भी बात की उन्होंने कहा, “मैं और कुछ अन्य लोग प्रत्येक विरोध( protest rally) रैली में सिर्फ व्यवस्था की देखरेख के लिए गए थे, अन्यथा, इन कार्यक्रमों का प्रबंधन सभी आयु वर्ग की महिलाओं द्वारा स्वतंत्र रूप से किया जाता था।”

संपर्क करने पर, भाजपा नेताओं के 8-सदस्यीय पैनल के चेयरमैन सुरजीत कुमार जियानी ने पंजाब की यूनियनों के साथ समन्वय स्थापित करने के लिए कहा, “मैं अपने गाँव के घर में ही था जब महिलाएँ गाँव में मोर्चा निकालती थीं और यहाँ तक कि मेरे घर के बाहर भी आई थीं। उन्होंने मेरे खिलाफ नारे लगाए हालांकि, मैं सच बोलता हूं कि उनका आंदोलन नेतृत्वविहीन (Movementless) है और मुद्दा कम (issue less)है। वे सच नहीं सुनना चाहते हैं और इस पर गुस्सा करना चाहते हैं। भाजपा ने कानून बनाए और इसलिए लोकतंत्र में, हमें इन कानूनों के बारे में बात करने का भी अधिकार है, लेकिन वे हमें बोलने की अनुमति भी नहीं दे रहे हैं यहॉ तक की हरियाणा के सीएम भी नहीं। हालांकि, मैं आज भी अपने बयान पर कायम हूँ। ”

हालांकि, हरजीत सिंह ग्रेवाल धनौला गांव में अपने पैतृक घर में नहीं थे। उन्होंने कहा, “भाजपा हमेशा किसानों के साथ है और मैं भी उनके साथ हूं। हालाँकि, यह वैचारिक भिन्नता (ideological difference) है जिसके कारण एक किसान यूनियन BKU Ekta Ugrahan ने हमारे खिलाफ विरोध किया है। हम मामले को सुलझाने की पूरी कोशिश कर रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here