वित्त मंत्रालय (Finance minister) ने ग्रामीण स्थानीय निकायों (RLB) को अनुदान के रूप में 25 राज्यों को 8,923.8 करोड़ रुपये की राशि जारी की है। अनुदान पंचायती राज संस्थाओं के तीनों स्तरों गांव, ब्लॉक और जिले के लिए हैं।

शनिवार को जारी की गई राशि वर्ष 2021-22 के लिए ‘अनटाइड ग्रांट्स’ की पहली किस्त है। इसका अभिप्राय कोविड-19 महामारी से निपटने के लिए आवश्यक विभिन्न रोकथाम और शमन उपायों के लिए, आरएलबीएस द्वारा, अन्य चीजों के साथ किया जाना है। इस प्रकार, यह कोविड से लड़ने के लिए पंचायतों के तीन स्तरों में संसाधनों को बढ़ाएगा।

15वें वित्त आयोग की सिफारिशों के अनुसार, अप्रयुक्त अनुदानों की पहली किस्त जून, 2021 के महीने में राज्यों को जारी की जानी थी। हालांकि, चल रही कोविड-19 (Covid-19) महामारी की स्थिति को देखते हुए और मंत्रालय की सिफारिश पर वित्त मंत्रालय के एक बयान में, पंचायती राज, वित्त मंत्रालय ने सामान्य कार्यक्रम से पहले अनुदान जारी करने का फैसला किया।

इसके अलावा, 15वें वित्त आयोग ने अनारक्षित अनुदान जारी करने के लिए कुछ शर्तें लगाई थीं। शर्तों में सार्वजनिक क्षेत्र में ग्रामीण स्थानीय निकायों के एक निश्चित प्रतिशत के खातों की ऑनलाइन उपलब्धता शामिल है। लेकिन मौजूदा परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए, इस शर्त को बिना अनुदान के पहली किस्त जारी कर दी गई हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.