वित्त्तीय ( Financial) और बैंकिंग (Banking) सेक्टरों के शेयरों में बिकवाली के भारी दबाव के चलते दलाल स्ट्रीट पर सोमवार को कोहराम का आलम बना हुआ था। सेंसेक्स 800 अंकों से ज्यादा टूटकर 50,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे फिसल गया और निफ्टी भी 200 अंकों से ज्यादा की गिरावट के साथ 14,800 से नीचे आ गया। बांड यील्ड में तेजी और महंगाई के आंकड़ों को लेकर निवेशकों में नकारात्मक रुझान बना हुआ था। दोपहर 12.25 बजे के करीब सेंसेक्स बीते सत्र से 810.59 अंकों यानी 1.60 फीसदी की गिरावट के साथ 49,981.49 पर कारोबार कर रहा था जबकि निफ्टी पिछले सत्र से 228.15 अंकों यानी 1.52 फीसदी की गिरावट के साथ 14,802.80 पर बना हुआ था।

बंबई स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक सेंसेक्स सोमवार को बीते सत्र से 18.61 अंकों की कमजोरी के साथ 50,773.47 पर खुला और बिकवाली के भारी दबाव में 49,899.03 तक लुढ़का जबकि इस दौरान सेंसेक्स का ऊपरी स्तर 50,834.78 रहा।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के 50 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक निफ्टी हालांकि बीते सत्र से 17.45 अंक चढ़कर 15,048.40 पर खुला लेकिन बिकवाली के दबाव में फिसलकर 14,776.20 पर आ गया।

जानकार बताते हैं कि बांड यील्ड में वृद्धि शेयर बाजार के लिए एक बड़ी चिंता का कारण है। वहीं, महंगाई में बढ़ोतरी और औद्योगिक उत्पादन में गिरावट के आंकड़े आने के बाद निवेशकों का मनोबल कमजोर हुआ है। इसके अलावा, फिर कोरोना का कहर गहराने लगा है जोकि चिंता का एक बड़ा कारण है।

Leave a comment

Your email address will not be published.