श्रीलंका की आर्थिक स्थिति बेहाल, लोगों का जीना हो रहा मुश्किल. वहीं चीन खेल रहा अपना चाल ?

0
Shri Lanka Vs China

चीन मदद के नाम पर हमेशा चालाकी करता है. कोरोना काल में पड़ोसी देश श्रीलंका को काफी अर्थिक महामारी का सामना करना पड़ा, जिसको लेकर देश की अर्थव्यवस्था हमेशा नीचे ही चलती रही जिस कारण लिया हुआ कर्ज और बढ़ गया. इस बात का फायदा उठाकर अब चीन श्रीलंका पर प्रेशर बना रहा है.

Shrilanka Economic Crisis: कोरोना महामारी में सिर्फ राज्य या देश ही नहीं ब्लकि पूरी विश्व में अर्थिक संकट आई थी. जिसको लेकर कई ऐसे देश हैं जिनकी आर्थिक स्थिति अभी तक ठीक नहीं हो पाई है. लेकिन कुछ ऐसे भी शक्तिशाली देश है जिनके अर्थव्यवस्था पर कोई फर्क नहीं पड़ा इसलिए वे देश उन छोटी-छोटी देशों की मदद कर रहे थे जिनको आर्थिक मदद की आवश्यकता थी. ऐसे में श्रीलंका को आर्थिक मदद की जरूरत थी तो चीन ने उसकी मदद की थी लेकिन अब चीन श्रीलंका को अपने जाल में फंसाने में लगीं है..

ये भी पढ़े..

Delhi Weekend Curfew: अब सिर्फ नाइट कर्फ्यू ही नहीं विकैंड कर्फ्यू भी रहेगी दिल्ली में, ये आवश्यक चीजे हमेशा रहेंगी खुली?

क्या हुआ था वास्तव में…

कोरोनावायरस की पहली लहर में ही श्रीलंका की आर्थिक स्थिति खराब चल रही थी जिसको लेकर श्रीलंका ने चीन से आर्थिक मदद के तौर पर 1 अरब डॉलर यानी की 7 हजार करोड़ रूपये का कर्ज लिया था लेकिन अभी भी श्रीलंका की आर्थिक स्थिति बहुत ही खराब चल रही है, लगभग 7.3 अरब डॉलर यानी कि 54,000 करोड़ रुपये के कर्ज से जुज रहा है श्रीलंका, इसमें सबसे ज़्यादा पैसा चीन का ही है. इसको लेकर चीन हमेशा लंका को बोलती रहती है. सोमवार को श्रीलंका के श्रीलंका सरकार ने 1.2 अरब डॉलर की इकनॉमिक रिलीफ पैकेज की घोषणा की है. वहीं देश के वित्त मंत्री का दावा है कि देश अंतर्राष्ट्रीय तौर पर लोन डिफॉल्ट नहीं करेगा.

ये भी पढ़े..

Happy Birthday Deepika Padukone : जाने रणवीर और दीपका की फैरिटल लव स्टोरी….

श्रीलंका में क्या है सबसे बड़ा आर्थिक सोर्स..

देश की सबसे अधिक जीडीपी टूरिज्म सेक्टर से आता है. इस सेक्टर से साल में लगभग 5 अरब डॉलर यानी की 37 हजार करोड़ का मुनाफा होता है इतना ही नहीं ब्लकि देश के लगभग 5 लाख लोग इस सेक्टर पर आधारित हैं. ये सब को पता है कि कोरोनावायरस आने के बाद टूरिज्म सेक्टर पर काफी असर पड़ा है खास कर श्रीलंका जैसे देश जिनकी आधी से ज्यादा इकनॉमी इस पर ही निर्भर करती है. इसलिए देश की अर्थव्यवस्था पूरी तरह से बर्बाद होगया है.

ये भी पढ़े..

Coronavirus Update: बिहार के दोनों उप मुख्यमंत्री कोरोना संक्रमित, CM नीतीश कुमार ने लिया बड़ा फैसला?

देश में महंगाई अपने चरम स्तर पर है. इनकी महंगाई इस कदर बड़ी हुई है की 1 kg के दूध के पाउडर को 100 100 g के पैकेट में भर कर बैच रहे हैं, क्योंकि 1kg का पाउडर दूध इतना महंगा है कि कोई ले ही नहीं पा रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here