Khatu Shyam Mela 2024: इस दिन से हो रही है खाटू श्याम मेले की शुरुआत, जानिए क्या है इसके पीछे कि मान्यता

Khatu Shyam Mela 2024

Khatu Shyam Mela 2024: मान्यता है कि जो भी खाटू श्याम जी के दरबार में अपनी इच्छा लेकर पहुंचता है, उसकी सभी इच्छाएं पूरी होती हैं। खाटू श्याम जो को हारे का सहारा नाम से भी जाना जाता है। हर साल खाटू श्याम मंदिर में खाटू श्याम मेले का आयोजन किया जाता है, जिसमें न केवल देश बल्कि विदेश से भी लोग आते हैं। आइए विस्तार से जानतें हैं इसके बारे में-

यह है मान्यता

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, फाल्गुन माह की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि खाटू श्याम जी के दर्शन के लिए विशेष मानी गई है। साल 2024 में फाल्गुन मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि 20 मार्च को पड़ रही है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, इसी तिथि पर भगवान श्रीकृष्ण के मांगने पर बर्बरीक ने अपना शीश काटकर उनके चरणों में समर्पित किया था। तभी से श्री कृष्ण जी के आशीर्वाद से उन्हें खाटू श्याम जी के नाम से जाना जाता है।

कब लगता है मेला?

इस विशेष अवसर पर खाटू श्याम मंदिर में एक मेले का भी आयोजन भी होता है, जिसे लक्खी मेले के नाम से जाना जाता है। यह मेला फाल्गुन माह की शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि से द्वादशी तक चलता है। इस दौरान दुनिया भर  से लाखों भक्त आते हैं और बाबा श्री खाटूश्याम जी के दर्शन करते हैं। वर्ष 2024 में होने वाले मेला 12 मार्च से शुरू होगा और 21 मार्च को समाप्त हो जाएगा।

इन दिन मनाया जाता है जन्मदिन

खाटू श्याम का जन्मदिन हर साल कार्तिक मास की एकादशी के दिन मनाया जाता हैं। इसके पीछे यह मान्यता है कि सीकर स्थित खाटू श्याम जी के मंदिर में इसी तिथि पर खाटू श्याम जी के शीश को स्थापित किया था। इसलिए हर साल कार्तिक शुक्ल एकादशी तिथि पर भी खाटू श्याम के भक्त इनका जन्मदिवस मनाते हैं। इस साल कार्तिक मास कि एकादशी 12 नवंबर को पड़ रही है। ऐसे में भक्त इस दिन ही उनका जन्मदिन मनाएंगे।