Shami Plant: शांति और समृद्धि का प्रतीक है शमी का पौधा, इस तरह करें इस पौधे कि देखभाल…

shami-plant

Shami Plant: सनातन धर्म में पेड़-पौधों का अधिक महत्व होता है। ऐसे कई पेड़ पौधे होते हैं जिन्हें देवी-देवताओं स्वरुप माना जाता है। इन्ही पौधों में से एक है शमी का पौधा। सनातन धर्म में शमी के पौधे का विशेष महत्व है। ऐसा कहा जाता है कि शमी के पौधे में भगवान शिव का वास होता है। ऐसे में बहुत लोग अपने घर में शमी का पौधा लगाते हैं। लेकिन कई बार लोग सभी पौधों की देखभाल एक ही तरीके से करते हैं।

इसलिए यह समझना आवश्यक है कि हर पौधे की देखभाल का तरीका अलग-अलग है। आज हम खासतौर पर शमी के पौधे के बारे में बात करेंगे। अगर आपने भी अपने घर में शमी का पौधा लगाया है लेकिन वह बार-बार सूख जाता है या उसकी ग्रोथ नहीं हो पाती है तो आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बताएंगे जिनसे आप शमी के पौधे का ध्यान रख सकते हैं।

ऐसे करें शमी के पौधे कि देखभाल-

सही गमला चुनें

अपने शमी के पौधे के लिए सही गमला चुनें जो न तो बहुत छोटा हो और न ही बहुत बड़ा हो। गमले में पानी निकालने के लिए छेद होना चाहिए ताकि जो ज्यादा पानी हो वो आसानी से बाहर निकल जाए। आप प्लास्टिक के गमले की जगह मिट्टी के गमले का उपयोग करें।

सही मिट्टी का प्रयोग करें

अपने शमी के पौधे को अच्छी जल निकासी वाली रेतीली मिट्टी में लगाएं। मिट्टी का पीएच 6.5 से 7.5 के बीच होना चाहिए।

पानी ध्यान से दें

शमी के पौधे को नियमित रूप से पानी दें, लेकिन उसे अधिक पानी न दें। मिट्टी को छूकर देखें और अगर यह छूने में सूखी लगे तो ही उसे पानी दें। अधिक पानी होने से बचें क्योंकि इससे जड़ें सड़ सकती हैं।

सही धूप दें

शमी का पौधा धूप पसंद करता है, लेकिन उसे पूरे दिन की तेज धूप में भी नहीं रखना चाहिए। उसे ऐसी जगह पर रखें जहां उसे सुबह की हल्की धूप और धूप मिल सके। दोपहर के समय उसे तेज धूप से बचाएं।

नियमित रूप से छंटाई करें

अपने शमी के पौधे को स्वस्थ और आकार में रखने के लिए उसकी नियमित रूप से छंटाई करें। मृत, टूटी शाखाओं को काट कर अलग कर दें। आप स्वस्थ शाखाओं को भी थोड़ा काट सकते हैं ताकि पौधा घना और झाड़ीदार हो सके।