टोक्यो ओलंपिक: भारतीय पुरुष हॉकी टीम के कप्तान मनप्रीत सिंह ने कहा कि बेल्जियम में खिलाफ सेमीफाइनल में हार के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने टीम को प्रेरित किया और हमें अगले मैच के लिए सकारात्मक रहने के लिए कहा। टोक्यो ओलंपिक में जर्मनी को 5-4 से हराकर भारत ने ब्रॉन्ज मेडल जीता।


गुरुवार को बेल्जियम के खिलाफ अपनी टीम की हार के बाद, भारत के कप्तान मनप्रीत सिंह ने पीएम मोदी के साथ बातचीत का खुलासा किया।
सेमीफाइनल में बेल्जियम से 2-5 से हारने के बाद, खेल में स्वर्ण पदक जीतने की भारत की उम्मीदों पर पानी फिर गया। मनप्रीत ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी ने प्ले-ऑफ के खेल के लिए सकारात्मक रहने के लिए कह कर खिलाड़ियों को निराशा से बाहर निकाला।


“हम पीएम को धन्यवाद देना चाहते हैं। उन्होंने (सेमीफाइनल हार के बाद) फोन किया और पूरी टीम से बात की और हमें सकारात्मक बने रहने और अगले मैच पर ध्यान देने को कहा। उन्होंने कहा कि पूरा देश आपके साथ है।” जर्मनी के खिलाफ भारत की ऐतिहासिक कांस्य पदक जीत के बाद मनप्रीत ने कहा। साथ ही उन्होंने कहा, पीएम ने फोन पर कहा कि पूरे देश को आप पर बहुत गर्व है।


41 वर्षों में भारत को अपने पहले ओलंपिक हॉकी मेडल तक पहुंचाने के बाद भावनाओं से अभिभूत, कप्तान मनप्रीत सिंह ने देश के डॉक्टरों और स्वास्थ्य देखभाल कर्मचारियों को ऐतिहासिक जीत समर्पित की है, जिन्होंने कोरोना महामारी के दौरान लोगों का जीवन बचाने के लिए जी-तौड़ प्रयास किये हैं।
सभी खेलों में भारत के नाम अब तक 8 स्वर्ण पदक हैं। भारत ने पिछली बार पोडियम पर1980 के Moscow Games में स्वर्ण पदक जीता था।


“मुझे नहीं पता कि अभी क्या कहना है, यह शानदार था। प्रयास, खेल, हम 3-1 से नीचे थे। मुझे लगता है कि हम इस पदक के लायक हैं। हमने इतनी महनत की है, पिछले 15 महीने हमारे लिए मुश्किल थे, हम बैंगलोर में थे और हम में से कुछ कोविड पॉजिटिव भी थे,” मनप्रीत ने याद किया।
“यह मुश्किल था, उन्हें अंतिम 6 सेकेंड में पेनल्टी कार्नर मिला। यह वास्तव में कठिन है। मैं अभी स्पीचलैस हूं,” कप्तान ने कहा, जो भावनाओं से अभिभूत लग रहे थे।

Leave a comment

Your email address will not be published.