महाराष्ट्र में COVID-19 के बढ़ते चले जा रहे हैं, परसो ही राज्य में 31,000 से भी ज्यादा नए कोरोना के मामले सामने आए थे। राज्य में एक बार फिर लॉकडाउन लगने की बात चल रही है, इसी बीच महाराष्ट्र के एक कोविड अस्पताल में आग लगी थी जिसके चलते अस्पताल में अब तक 10 लोगों की मौत हो चुकी है.

इस हादसे में हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए आज मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे घटनास्थल पर पहुंचे थे. मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिवारों से माफी भी मांगी और साथ ही हादसे के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ जल्द कार्रवाई करने की भी बात कही हैं।

उद्धव ठाकरे ने कहा, “अगर इसमें किसी की अनदेखी होगी तो कार्रवाई जरूर होगी. जिनकी मौत हुई है उनके परिवारों से मैं क्षमा मांगता हूं. फायर ब्रिगेड ने अच्छा काम किया है. कुछ लोग जो वेंटिलेटर पर थे उन्हें हम नहीं बचा पाए. अस्पताल के नीचे जो ऑफिस या दुकान थी वहां आग लगी और फैल गई.”

उद्धव ठाकरे ने ये भी कहा, “पिछले एक साल से हम कोरोना से लड़ रहे हैं. पिछले साल जब कोरोना की शुरुआत हुई थी तब बैड नहीं थे, ऑक्सीजन की कमी थी, वेंटिलेटर नहीं मिल रहे थे. इस दौरान कई अस्पतालों को कोविड के इलाज के लिए अस्थाई रूप से अनुमति देनी पड़ी थी. इसी अस्पताल को भी अस्थाई रूप से अनुमति दी गई थी. आने वाली 31 मार्च को ये अनुमति खत्म होने वाली थी.”

आपको बता दे की यह अस्पताल मुंबई के एक मॉल में स्थित हैं और वहां आग लगने के बाद 70 मरीजों को निकला गया था, जबकि 10 मरीज़ो की मौके पर ही मौत हो गयी थी। भांडुप इलाके में स्थित ड्रीम्स मॉल इमारत में सनराइज अस्पताल में आधी रात को आग लगी थी जिसके बाद पुरे एरिया में हड़कंप मच गया था.

Leave a comment

Your email address will not be published.