योगिता लढ़ा, नई दिल्ली।73 Republic Day: भारत हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाता है। 2022 में देश अपना 73वां गणतंत्र दिवस मना रहा है। हालांकि, भारत ने 1947 में ब्रिटिश राज से स्वतंत्रता प्राप्त की थी लेकिन ये 26 जनवरी, 1950 था जब कि भारतीय संविधान लागू हुआ। जिसने भारत को एक गणतंत्र देश घोषित किया। इसके अतिरिक्त, आपको बता दें, भारत में हर साल 26 नवंबर को संविधान दिवस मनाया जाता है, क्योंकि 26 नवंबर, 1949 को भारत की संविधान सभा ने भारत के संविधान को अपनाया था।


गणतंत्र दिवस 2022 के अवसर पर, हमने भारतीय संविधान और इसे लिखने की प्रक्रिया के बारे में आश्चर्यजनक बातों की एक सूची तैयार की है। नीचे पढ़िए:

Indian Constitution.

  • संविधान की केवल दो मूल हस्तलिखित कॉपियां हैं। जो हिंदी और अंग्रेजी में लिखी गई थी। इन कॉपियों को संसद में हीलियम से भरे बक्सों में रखा जाता है।
  • संविधान लिखना एक बहुत बड़ा काम था और इस कार्य को पूरा करने में 2 साल, 11 महीने और 16 दिनों का समय लगा था।
  • भारतीय संविधान में 444 अनुच्छेदों को 22 पार्ट्स और 12 शेड्यूल में बांटा गया है।
  • हमारे संविधान की मूल हस्तलिखित कॉपियों पर 24 जनवरी 1950 को विधानसभा के 308 सदस्यों ने हस्ताक्षर किए थे।
  • ब्रिटिश औपनिवेशिक भारत सरकार अधिनियम (1935) (British colonial Government of India Act 1935) के बदले हमारा संविधान को 1950 में अपनाया गया था।

Republic Day Parade.
  • राजपथ, जिसे पहले किंग्सवे नाम दिया गया था, 26 जनवरी, 1955 को गणतंत्र दिवस परेड का स्थल बन गया।
  • पहली गणतंत्र दिवस परेड 26 जनवरी 1950 को हुई थी और जिसमें आपको बता दें, इंडोनेशिया (Indonesia) के राष्ट्रपति डॉ सुकर्णो (President Dr. Sukarno) मुख्य अतिथि थे।
  • गणतंत्र दिवस परेड राष्ट्रपति के आगमन के साथ शुरू होती है और उनके घुड़सवार बॉडी गार्ड पहले राष्ट्रीय ध्वज को सलामी देते हैं।
  • बंदूक की सलामी राष्ट्रगान के साथ मेल खाती है। शुरू में पहली फायरिंग और 52 वें सेकंड में अंतिम फायरिंग की जाती हैं।
  • फ्लाईपास्ट (flypast) में भाग लेने वाले विमान अलग-अलग बेस से उड़ान भरते हैं और निर्धारित समय पर कार्यक्रम स्थल पर पहुंचते हैं। इसके लिए उच्चतम स्तर का ताल-मेल ज़रूरी होता है।
  • हैरानी की बात ये है कि गणतंत्र दिवस परेड के दौरान दिखाई गई झांकी लगभग 5 किमी प्रति घंटा की निश्चित गति से चलती है।

ये भी पढ़े:

Republic Day 2022 : राष्ट्रपति Neeraj Chopra को इस पुरस्कार से करेंगे समांनित!

Republic Day 2022 : क्यों है हमारे देश का झंडा ‘तिरंगा’ ? जाने अपने देश के झंडे से जुड़ी रोचक बातें …

Leave a comment

Your email address will not be published.