IT Raid: आखिर कौन है Piyush Jain जिसके घर पर मिले 257 करोड़ , पढ़ चौक जाएगें आप!

0
IT Raid_ Piyush Jain
IT Raid_ Piyush Jain

नई दिल्ली: IT Raid: रविवार को यूपी पुलिस (UP Police) ने पीयूष जैन (Piyush Jain) को टैक्स चोरी के जुर्म में गिरफ्तार कर लिया है। इस मामले की कार्यवाही जीएसटी इंटेलिजेंस (GST Intelligence) कर रही थी। आपको बता दें, करीबन 4 दिन की छापेमारी के बाद पीयूष को गिरफ्तार किया गया है।

जानकारी के मुताबिक पीयूष जैन का अहमदाबाद, गुजरात (Ahmedabad, Gujrat) ले जाया सकता है। अधिकारियों ने बताया है की आरोपी पर सीजीएसटी एक्ट (CGST Act) की धारा 69 (Section 69) के तहत मुकदमा चलाया जाएगा।

गौरतलब है कि अभी तक हुई छापेमारी में आरोपी के घर पर एक तहखाना मिला। साथ ही पीयूष जैन के फ्लैट पर 300 चाबियां मिली थी। जिसके बाद छापेमारी में कुल 257 करोड़ कैश और जूलरी बरामद की गई है।

जानें कौन है पीयूष जैन?
जैन उत्तर प्रदेश का इत्र कारोबारी है। कन्नौज (Kannauj) और कानपुर (Kanpur) में जैन के 1-1 घर है। कन्नौज में पियूष का छपट्टी मोहल्ले (Chhapatti Mohalla) में घर है। जहां के लोगों का कहना है कि आरोपी सार्वजनिक रूप से कम दिखाई पड़ता है। वहीं कानपुर में आनंदपुरी कॉलोनी (Anandpuri Colony) वाले बंगले के बाहर भी वो कम ही दिखते हैं। आपको बता दें कि पीयूष ने आनंदपुरी का बंगला हाल ही में खरीदा था।

पीयूष का परिवार साधारण जीवन जीता है। जिसके कारण इस छापेमारी के बाद पड़ोसी भी हैरान है। आपको बता दें आनंदपुरी में पीयूष का घर कुछ ऐसे बना है जिससे बाहर से अंदर की गतिविधियां का पता लगा पाना मुश्किल है।

टैक्स चोर पीयूष जैन के बारे में पुलिस को यहां से मिली जानकारी:
ये कहानी शुरू हुई जब अहमदाबाद की डीजीजीआई टीम (DGGI) द्वारा एक ट्रक को पकड़ा गया था। ट्रक में ले जा रहे सामानों का बिल फर्जी कंपनियों के नाम पर था। जानकारी के मुताबिक मिले हुए सारे बिल की कीमत 50 हजार रुपये से कम की थी। जिस कारण से ई- वे बिल (E-Way Bill) नहीं बनाए गए थे।

ट्रक मिलने के बाद डीजीजीआई ने कानपुर में ट्रांसपोर्टर के पास छापेमारी शुरू की। आपको बता दे, यहां पर एजेंसी को कम से कम 200 बिल ऐसे मिले थे, जो फर्जी कंपनियों के नाम पर बनाए गए थे। इसी जगह से पीयूष जैन एजेंसियों के शक के घेरे में आया। एजेंसियों को इस बात की आशंका थी कि इन सब का पीयूष जैन से कोई ना कोई कनेक्शन होगा।

इसके बाद इत्र कारोबारी पीयूष जैन के घर पर छापेमारी की गई जिसमें अधिकारियों को अलमारियों में नोटों के बंडल मिले थे। जिसके बाद आयकर विभाग (Income tax Department)
को बुलाया गया।

गुरुवार को पड़ा था पहला छपा:
डीजीजीआई और आयकर विभाग का समूह इत्र कारोबारी पीयूष जैन के घर पहुंचे। आपको बता दें ये छपा जैन के कन्नौज वाले घर पर पड़ा था। इस कार्यवाही के दौरान इतने पैसे मिले थे कि नोट गिनने की मशीनें काम पड़ गई थी।

जानकारी के मुताबिक एजेंसियों ने कुल 8 मशीनों का इस्तमाल किया था। इस छापेमारी में 257 करोड़ रुपये कैश मिले हैं। वहीं पीयूष के पास से 300 करोड़ के जमीनी दस्तावेज मिले हैं। इसके अलावा पीयूष के पास मुंबई (Mumbai) और दुबई (Dubai) की भी कुछ संपत्ति है। साथ ही एजेंसियों को इस छापेमारी के बाद करोड़ों रुपयों का सोना भी मिला है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here