UGC: मोदी सेल्फी पॉइंट बनाने की बात पर शुरू हुई चर्चा, जानिए क्या कहती हैं रिपोर्ट्स रिपोर्ट्स

ugc

UGC: यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन यानी की यूजीसी की ओर से जारी एक आदेश इस वक्त चर्चा का विषय बना हुआ है। इस आदेश में यूनिवर्सिटीज को मोदी सेल्फी प्वाइंट बनाने की बात कही गई। यूजीसी की ओर से एक पत्र में लिखा गया की सभी सेंट्रल यूनिवर्सिटी अपने कैंपस में प्रधानमंत्री मोदी का कटआउट लगाएंगी, जिसके सामने छात्र छात्राएं सेल्फी लेंगे। इस फैसले को कहीं कहीं तुरंत लागू कर दिया गया।

राजनीति से प्रेरित फैसला

यूजीसी के इस फैसले को कुछ लोग राजनीति से प्रेरित बता रहे हैं, तो कुछ का कहना है की नरेंद्र मोदी अब कॉलेजों को भी अपने प्रचार से वंचित नहीं रखना चाहते हैं। विपक्षी पार्टियों ने भी इस फैसले का कड़ा विरोध किया है, कांग्रेस प्रवक्ता का कहना है की प्रधानमंत्री अपने फायदे के लिए यूजीसी को सहारा बना रहे हैं, ताकि युवाओं में उनकी लोकप्रियता बढ़े।

यूजीसी ने क्या कहा

बढ़ते विवाद पर यूजीसी की ओर से भी सफाई दी गई है, जिसमे बताया गया है की उनकी ओर से लिया गया ये फैसला न किसी राजनीतिक पार्टी के लिए है और न ही किसी के दबाव में आकर लिया गया है। प्रधानमंत्री देश के सबसे लोकप्रिय व्यक्ति हैं और बड़ी संख्या में युवा उन्हें फॉलो भी करते हैं। मोदी सेल्फी प्वाइंट बनाने का सिर्फ एक मकसद है, युवाओं को सोशल मीडिया के प्रति जागरूक करना उन्हें इसकी ताकत से अवगत कराना।

ये भी पढ़ें: Cricket: भारत को मिल गया धोनी का उत्तराधिकारी? इस शॉट के दिवाने हुए फैंस

मीडिया रिपोर्ट्स

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूजीसी ने मोदी सेल्फी प्वाइंट बनाने के अपने आदेश में संशोधन किया है, इसकी विस्तृत जानकारी जल्द ही शेयर की जाएगी। माना जा रहा है की प्रधानमंत्री की तस्वीर को हटाकर किसी अन्य तरीके से इस अभियान को आगे बढ़ाया जाएगा। हालांकि इसे लेकर अभी तक यूजीसी ने कोई भी आधिकारिक घोषणा नही की है।

Latest posts:-