IIT बॉम्बे ने छात्रों को अफगानिस्तान से लौटने की अनुमति दे दी है, लेकिन निदेशक सुभासिस चौधरी ने कहा कि उन्हें यकीन नहीं है कि उनके लिए कितनी देर हो चुकी है। काबुल हवाई क्षेत्र अब बंद कर दिया गया है।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (IIT) बॉम्बे ने अफगानिस्तान के छात्रों को अपने देश में बिगड़ते हालात को देखते हुए छात्रावास में शामिल होने के लिए ऑनलाइन कक्षाओं में भाग लेने की अनुमति दे दी है। आपको बता दें, अमेरिका द्वारा अफगानिस्तान से अपने सैनिकों को वापस बुलाने के साथ, तालिबान ने देश में तहलका मचा दिया है।15 अगस्त को इसके अध्यक्ष अशरफ गनी ने काबुल को छोड़ दिया और आज तालिबान ने राजधानी पर कब्जा कर लिया है।

यह भी पढ़े-पीएम मोदी की 10 बड़ी बातें जो अपने संबोधन में उन्होंने कहीं

ये छात्र IIT बॉम्बे में पढ़ाई रहे थे लेकिन COVID-19 महामारी के चलते वापस घर चले गए थे। जैसे ही उनके देश में स्थिति में कुछ गिरावट आई, तो उन्होंने आईआईटी बॉम्बे के अधिकारियों से उन्हें छात्रावास में रहने देने का अनुरोध किया। और उनके अनुरोध को संस्था ने मंजूरी दे दी है।


आपको बता दें, आईआईटी बॉम्बे के निदेशक सुभासिस चौधरी ने फेसबुक पर पोस्ट के जरिए इस फैसले की जानकारी दी है। उन्होंने कहा, “हमने इस साल अफगानिस्तान के कुछ छात्रों को आईसीसीआर से छात्रवृत्ति के तहत मास्टर्स प्रोग्राम में प्रवेश करने की पेशकश की थी। ऑनलाइन निर्देशों के कारण, वे सभी अपने घरों से कक्षा में भाग ले रहे थे।”


इसके अलावा, निदेशक ने कहा, “हालांकि, अपनी मातृभूमि में तेजी से बिगड़ती परिस्थितियों के कारण, वे अपने देश से बाहर आना चाहते थे और परिसर में छात्रावासों में शामिल होना चाहते थे। हालांकि हमने विशेष मामले के रूप में उन्हें परिसर में आने के उनके अनुरोध को मंजूरी दे दी है, हमें यकीन नहीं है कि उन्हें अपने सपनों को पूरा करने में कितनी देर हो चुकी है। हमें उम्मीद है कि वे सभी सुरक्षित हैं और जल्द ही हमारे साथ जुड़ सकेंगे।”

IIT बॉम्बे ने वर्तमान शैक्षणिक वर्ष में 9 अफगान छात्रों को प्रवेश दिया और ये छात्र एम-टेक का कोर्स कर रहे हैं और कोरोना महामारी के कारण ऑनलाइन क्लासे्ज में भाग ले रहे हैं। ये छात्र भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद (आईसीसीआर) छात्रवृत्ति के धारक हैं

यह भी देखें

Leave a comment

Your email address will not be published.