आज के समय में जहां न्याय विभाग पर ढेरों सवाल उठ रहे हैं तो वहीं कुछ लोग बुरा बोलने वालों की परवाह किए बिना अपने शहर और देश के लिए बेहतरीन काम कर, लोगों को इन्साफ दिलाने और न्याय के प्रति विश्वास रखने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। इन्हीं में एक संभल जिले के पूर्व एसएचओ भी हैं।
संभल जिले में एक एसएचओ ने अपने कार्यकाल के दौरान फर्ज निभाते हुए लोगों के दिलों में इस कदर जगह बना ली, कि उनके तबादले की खबर ने सभी को परेशान कर दिया।


हालांकि सरकारी आदेश में कोई कुछ नहीं कर सकता, लेकिन यहां के लोगों ने बेहद ही शानदार अंदाज में उनकी विदाई की। लोगों ने उनकी विदाई बेहद ही शानदार तरीके से की। बड़ी संख्या में कोतवाली पहुंचे लोगों ने केतु को माला पहनाई, इसके बाद ढोल-नगाड़ों के साथ थाने में जश्न का माहौल देखा गया।


जिले के अलग-अलग थानों में 6 साल 4 महीनें तक तैनात रहे रणवीर सिंह को सरकारी फरमान के बाद तो जाना था ही, लेकिन लोगों ने उनकी विदाई के वक्त एसएचओ को एक दूल्हे की तरह पगड़ी भी पहनाई, और उन्हें बग्गी पर भी बैठाया गया, फिर इस बग्गी को पूरे क्षेत्र में चक्कर लगवाया गया, जिस तरह से लोग बारात में नाचते और झूमते हैं ठीक उसी तरह का माहौल वहां दिखाई दिया।


जिस तरह बारात में दूल्हे को हार पहनाकर नोटों की न्यौछावर उसके सिर पर रखी जाती है ठीक वैसे ही एसएचओ की विदाई को भी जश्न मनाया गया, लोग 100 और 500 के नोटों से बग्गी पर चढ़ कर न्यौछावर कर रहे थे। रणवीर सिंह की स्पेशल विदाई की चर्चा जोर शोर से खबरों में है। आपको बता दें अपने 6 साल 4 महीने के अनुभव में उन्होंने 52 से अधिक मुठभेड़ों में शामिल होकर कई बड़े अपराधियों को सलाखों के पीछे पहुंचाया है।

हालांकि, इस खास विदाई समारोह में लोगों ने कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया सभी लोग बिना मास्क के नजर आए, और न ही किसी ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया।

Leave a comment

Your email address will not be published.