राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन का शनिवार सुबह दिल्ली के एक अस्पताल में निधन हो गया जहां वह COVID19 के इलाज में थे, ये जानकारी एएनआई ने दी। लेकिन कुछ देर बाद एएनआई ने इसे फेक न्यूज बताया, आपको बतो दे की अस्पताल के एक सूत्र ने बताया है की मौत हो गई है। वहीं दूसरी तरफ सिवान में शोक की लहर हैं। लेकिन अभी शहाबुद्दीन की पत्नी हिना साहब की कॉल रिकार्ड में इस खबर को गलत ठहराया हैं।

दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को AAP सरकार और जेल प्राधिकरण को निर्देश दिया था कि वह COVID -19 से पीड़ित और RJD के पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन की उचित चिकित्सा देखरेख और देखभाल सुनिश्चित करें। आपको बता दे की जब ये सवाल उठा की जेल में रहते हुए शहाबुद्दीन को कोरोना कैसे हो गया तो वहा के कुछ सूत्रों का कहना हैं की शहाबुद्दीन को एक पाकिस्तान के एक आतंकवादी के साथ रखा गया था। जो कोरोना से सक्रमित था। मोहम्मद शहाबुद्दीन की पूरी हानी

न्यायमूर्ति प्रथिबा एम सिंह ने कहा कि कोरोना रोगियों की देखभाल के लिए ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टर शहाबुद्दीन की स्वास्थ्य स्थिति और उपचार की निगरानी करेंगे और यदि आवश्यक हो, तो दीन दयाल उपाध्याय अस्पताल के वरिष्ठ डॉक्टरों से भी सलाह लें।

शहाबुद्दीन 2004 के दोहरे हत्याकांड में आजीवन कारावास की सजा काट रहा था जिसमें दो भाइयों को जबरन धन का भुगतान न करने पर मार दिया गया था। आपको बता दे की सिवान जिलें में शोक कि लहर दौड़ गई, शहाबुद्दीन सिवान के लोगों के लिए मसीहा थे। सिवान में लोग उन्हें साहेब कहते थे।

Leave a comment

Your email address will not be published.