सामाचार नगरी: तृणमूल कांग्रेस (TMC) के प्रमुख और पश्चिम बंगाल के ममता बनर्जी को लिखे कड़े शब्दों वाले एक पत्र में चुनाव आयोग (Election Commission) ने मंगलवार को कहा कि वह इस बात को पसंद नहीं करेगा कि किसी राजनीतिक दल से कथित निकटता को लेकर उसे सवालों के कठघरे में खड़ा किया जाए. चुनाव आयोग ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त (सीईसी) सुनील अरोड़ा को भेजे गये ममता के एक पत्र के जवाब में कहा, ‘‘कोलकाता में और राष्ट्रीय राजधानी (नयी दिल्ली) में हाल के समय में टीएमसी के प्रतिनिधियों से मुलाकात करने के बावजूद, ‘‘यदि यह माननीय मुख्यमंत्री द्वारा कहा गया है कि आयोग को राजनीतिक दलों से मिलना चाहिए, तो यह संस्था के तौर पर आयोग का महत्व बार-बार संकेतों और दृढ़ कथनों के साथ घटाने की ही कोशिश होगी.

आपको बता दे की पश्चिम बंगाल के प्रभारी उप निर्वाचन आयुक्त सुदीप जैन ने ममता को लिखे पत्र में कहा, ‘आयोग इस रुख पर कायम है कि वह किसी राजनीतिक दल से कथित निकटता के लिए गहन निगरानी में नहीं रखा जाना चाहेगा.’ उप निर्वाचक आयुक्त के पत्र से बनर्जी क्या करेगी.

साथ ही अमित शाह पर भी की टिप्पणी

साथ ही ममता ने मंगलवार को पश्चिम बंगाल में चुनावी रैलियों को संबोधित करते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह पर आरोप लगाया कि वह विधानसभा चुनाव से पहले तृणमूल कांग्रेस नेताओं को प्रताड़ित करने की साजिश रच रहे हैं. ममता ने यह भी जानना चाहा कि क्या चुनाव आयोग को उनसे(शाह से) निर्देश मिल रहे हैं. मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि यदि भाजपा उसके रोजमर्रा के कामकाज में दखलंदाजी जारी रखेगी तो वह चुनाव आयोग कार्यालय के बाहर प्रदर्शन करने को मजबूर हो जाएंगी. ममता को अभी भी ये लग रहा है की ये सब BJP करवा रही है.

Leave a comment

Your email address will not be published.