मनीष सिसोदिया ने 9 मार्च को दिल्ली बजट 2021 की बैठक के दौरान मंत्रियों और पत्रकारों को संबोधित किया। उन्होंने आने वाले शैक्षणिक वर्ष में राष्ट्रीय राजधानी की शिक्षा प्रणाली में प्रगति के संबंध में कई महत्वपूर्ण घोषणाएं कीं।

मनीष सिसोदिया, जो दिल्ली के उप मुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री हैं, उन्होनें दिल्ली में एक सैनिक स्कूल की स्थापना के बारे में बात की। उन्होंने दिल्ली के सरकारी स्कूलों में उच्च कक्षाओं के पाठ्यक्रम में आने वाले परिवर्तनों के बारे में भी बात की।

इस महीने की शुरुआत में, AAP सरकार ने घोषणा की थी कि दिल्ली कैबिनेट ने दिल्ली बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन की स्थापना को मंजूरी दे दी है, और उनका लक्ष्य है कि आने वाले शैक्षणिक वर्ष में 20 से 25 स्कूलों को इस बोर्ड में बदल दिया जाए।

दिल्ली बजट 2021: शिक्षा घोषणाओं की मुख्य विशेषताए

  • दिल्ली में कुल 5651 स्कूल हैं और शैक्षिक मानकों की बात करें तो नीती अयोग ने दिल्ली सरकार के स्कूलों को नंबर 1 के रूप में स्थान दिया है।
  • वर्तमान में, दिल्ली में 16 लाख से अधिक छात्र AAP सरकार द्वारा शुरू की गई खुशी की कक्षाओं में भाग ले रहे हैं। स्कूलों में एक अंतरराष्ट्रीय सेल की स्थापना भी वर्तमान में चल रही है।
  • दिल्ली के स्कूलों में नए शुरू किए गए उद्यमिता पाठ्यक्रम के तहत, प्रत्येक छात्र को अपना उद्यम शुरू करने के लिए बीज के रूप में 2000 रुपये दिए जाएंगे।
  • कक्षा नर्सरी से 8 तक के छात्रों के लिए एक नया पाठ्यक्रम तैयार किया जा रहा है और दिल्ली का अपना शैक्षिक बोर्ड राष्ट्रीय राजधानी में स्थापित किया जा रहा है।
  • आगामी वर्षों में, दिल्ली में उत्कृष्टता के लगभग 100 विशेष स्कूल स्थापित किए जाएंगे।
  • दिल्ली में दिल्ली आर्म्ड फोर्सेज की प्रारंभिक अकादमी के साथ-साथ अपना पहला सैनिक स्कूल होगा जहां नियमित अध्ययन के अलावा, छात्र एनडीए कोचिंग से परिचित होंगे।
  • इस वर्ष, दिल्ली सरकार ने प्रत्येक छात्र पर सरकारी स्कूलों में सालाना खर्च की गई राशि में वृद्धि की है। सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी में सरकारी स्कूलों और अस्पतालों के विकास के महत्व पर जोर दिया है।

Leave a comment

Your email address will not be published.