Education Nagari: कोरोना महामारी के मद्देनजर एक बार फिर जेईई की परीक्षा (Examination of JEE) स्थगित करने का फैसला किया गया है। हालांकि इस बार जेईई एडवांस (JEE Advance) की परीक्षाएं स्थगित की गई हैं। दरअसल जेईई मेंस (JEE Mains) की परीक्षाएं अपने नियत समय पर नहीं हो पाई, इसी के चलते 3 जुलाई को होने वाली जेईई एडवांस की परीक्षाएं भी स्थगित कर दी गई हैं। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (Indian Institute of Technology) यानी आईआईटी खड़गपुर (IIT Kharagpur) ने जेईई एडवांस 2021 की परीक्षाएं स्थगित करने की घोषणा की है। जेईई मेंस की परीक्षाएं इसी महीने 24 से 28 मई के बीच होनी थी। देशभर में कोरोना संक्रमण की मौजूदा स्थिति को देखते हुए नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) ने फिलहाल जेईई मेंस की परीक्षाएं स्थगित करने का ऐलान कर दिया है।

इससे पहले अप्रैल महीने में होने वाली जेईई मेंस की परीक्षाएं भी स्थगित की जा चुकी हैं। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने मौजूदा वर्ष में जेईई मेंस की परीक्षाएं 4 बार लेने का निर्णय लिया था। नेशनल टेस्टिंग एजेंसी (NTA) इस वर्ष कोरोना संक्रमण के चलते चार बार जेईई मेंस का आयोजन करना था। इसमें अभ्यर्थी चारों परीक्षाओं में शामिल हो सकते हैं। उनके सबसे बेहतर नंबर जेईई एडवांस के लिए माने जाएंगे। लेकिन अभी तक जेईई मेंस के चार सत्रों में से केवल दो सत्रों की ही परीक्षा ली जा सकी है। यही कारण है कि अब जेईई एडवांस की परीक्षा भी स्थगित करनी पड़ी है।

NTA की वरिष्ठ परीक्षा निदेशक डा साधना पराशर (Dr sadhana parashar) ने बताया कि परीक्षा का पहला सत्र फरवरी में आयोजित किया गया। इसमें 6 लाख 20 हजार से अधिक छात्र शामिल हुए। इसके बाद दूसरा सत्र मार्च माह में आयोजित किया गया। इस परीक्षा में पांच लाख 56 हजार से अधिक छात्रों ने हिस्सा लिया। परीक्षा का तीसरा सत्र 27 से 30 अप्रैल के बीच आयोजित किया जाना था लेकिन कोरोना की मौजूदा लहर को देखते हुए इसे स्थगित करना पड़ा। कोरोना के ही कारण 24,25,26,27 और 28 मई को पहले से तय जेईई मेंस के चौथे सत्र की परीक्षाएं भी स्थगित की गई हैं।

शिक्षा मंत्रालय (Education Minister) के मुताबिक स्थिति सामान्य होने पर जब भी परीक्षा ली जाएगी तो उस से 15 दिन पहले छात्रों को परीक्षा की तारीख के बारे में अवगत कराया जाएगा। मार्च में हुई जेईई मेन परीक्षा सीजन 2 के नतीजे घोषित किए जा चुके हैं। यह परीक्षाएं पहली बार क्वालालंपुर और लागोस जैसे विदेशी शहरों में भी आयोजित की गई थी। भारत सरकार के सहयोग से इन परीक्षाओं को 12 विदेशी शहरों और 334 भारतीय शहरों में आयोजित किया गया था। गौरतलब है कि कोविड की दूसरी लहर के कारण केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने मई, 2021 के महीने में निर्धारित सभी ऑफलाइन परीक्षाओं को स्थगित करने का आग्रह किया है।

यह निर्णय देशभर के सभी केंद्रीय उच्च शिक्षण संस्थानों पर लागू होगा। इसके अलावा ऐसे उच्च शिक्षण संस्थानों को भी ऑफलाइन परीक्षाएं स्थगित करनी होगी जिनको केंद्र सरकार से वित्तीय सहायता प्राप्त होती है। केंद्रीय वित्त पोषित संस्थानों के सभी प्रमुखों को संबोधित एक पत्र में उच्च शिक्षा सचिव अमित खरे ने इन संस्थानों से मई, 2021 के महीने में होने वाली सभी ऑफलाइन परीक्षाओं को स्थगित करने का आग्रह किया है। हालांकि ऑनलाइन परीक्षाएं जारी रह सकती हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.