गुरुत्व राजपूत, नई दिल्ली। दिल्ली (Delhi) में कोविड की तीसरी लहर अपने अंतिम चरण में पहुंच गई हैं। साल शुरू होते ही रिकॉर्ड तोड़ मामले दर्ज किए गए थे। हर दिन पच्चीस से तीस हजार केस सामने आए थे। जिसके बाद अब हाल ही में रोज़ाना पांच हज़ार के करीब मामले देखने को मिल रहें हैं। जिस कारण से दिल्ली सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी में वीकेंड कर्फ्यू हटाने का फैसला लिया है। गुरुवार को हुई आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (DDMA) की महत्वपूर्ण बैठक में ये निर्णय लिया गया है। इस मीटिंग में कई अन्य बड़े भी दिए गए हैं।

दिल्ली में नहीं होगा अब ऑड-इवन सिस्टम:

डीडीएमए द्वारा दिए गए दिशानिर्देशों के अनुसार अब बार और रेस्तरां को 50% क्षमता के साथ खोलने की अनुमति दी गई है। दुकानें खोलने के ऑड-इवन सिस्टम को भी हटा दिया गया है। शादियों में आने वाले मेहमानों की संख्या बढ़ाकर 200 कर दी गई है। सूत्रों की मानें तो अगली बैठक में स्कूलों को फिर से खोलने पर भी फैसला लिया जा सकता है। 

सिनेमा हॉल, थिएटर भी 50 प्रतिशत क्षमता के साथ फिर से खुल सकते हैं। डीडीएमए द्वारा आदेश जारी करने के बाद ही बदलाव लागू होंगे। डीडीएमए ने अधिकारियों को राजधानी में मास्क पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने जैसे कोविड-19 प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन सुनिश्चित करने का भी निर्देश दिया। 

DDMA मीटिंग में शामिल थे सीएम केजरीवाल:

डीडीएमए बैठक की अध्यक्षता आज दोपहर 12:30 बजे उपराज्यपाल अनिल बैजल (Lt Governor Anil Baijal) ने की थी। आपको बता दें, इस बैठक में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal), डीडीएमए अध्यक्ष समेत अन्य विशेषज्ञ और अधिकारी भी मौजूद थे।

इससे पहले, दिल्ली के व्यापारियों ने उपराज्यपाल को पत्र लिखकर सप्ताह के अंत में कर्फ्यू और दिल्ली में दुकानें खोलने के लिए ऑड-इवन नियम को हटाने की मांग की थी। उन्होंने हवाला दिया कि दिल्ली में रिटेलिंग व्यापारियों को पिछले 25 दिनों में कोविड-19 प्रतिबंधों के कारण लगभग 70% का नुकसान हुआ है।

ये भी पढ़े: DELHI: इंसानियत शर्मसार; महिला का अपहरण कर किया गैंगरेप, पुलिस ने 4 को दबोचा

Leave a comment

Your email address will not be published.