दिल्ली के तत्कालीन मुख्य सचिव अंशु प्रकाश पर हमले से जुड़े 2018 के एक मामले में दिल्ली की अदालत ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया और आम आदमी पार्टी के नौ अन्य विधायकों को बुधवार को बरी कर दिया।

आदेश पर प्रतिक्रिया देते हुए मनीष सिसोदिया ने कहा, ”यह न्याय और सच्चाई की जीत का दिन है. कोर्ट ने कहा कि मामले में सभी आरोप झूठे और निराधार हैं, उस झूठे मामले में मुख्यमंत्री को आज बरी कर दिया गया. आरोप झूठे थे। यह मुख्यमंत्री के खिलाफ रची गई साजिश थी।”

अदालत ने हालांकि आप विधायक अमानतुल्ला खान और प्रकाश जरवाल के खिलाफ आरोप तय करने का आदेश दिया है।

अरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया और नौ विधायकों पर पुलिस ने आपराधिक साजिश का मामला दर्ज किया था, जबकि प्रकाश जरवार और अमानतुल्ला खान पर एक लोक सेवक पर हमला करने और धमकाने का आरोप लगाया गया था।

प्रकाश ने आरोप लगाया कि 19 फरवरी, 2018 को केजरीवाल के आधिकारिक आवास पर एक बैठक के दौरान उनके साथ मारपीट की गई।

मुख्य सचिव पर कथित हमले से दिल्ली सरकार और उसके नौकरशाहों के बीच तीखी नोकझोंक हुई थी।

Leave a comment

Your email address will not be published.