Uttarpardesh News: उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार (Yogi Adityanath Government) अब प्रयागराज (Prayagraj) में नदियों के किनारे रेत में दबे शवों से भगवा कफन हटाने को लेकर आलोचनाओं का सामना कर रही है। एक वीडियो क्लिप साझा करते हुए, जिसमें कार्यकर्ताओं को रेत में दबे शवों से भगवा कफन खींचते हुए दिखाया गया है, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा (Congress General Secretary Priyanka Gandhi Vadra) ने ट्वीट कर लिखा, उन्हें जीवित रहते हुए इलाज नहीं दिया गया, उनकी मृत्यु में उन्हें सम्मान नहीं मिला और ना ही सरकारी आंकड़ों में जगह उन्हें मिली। अब उनके शरीर से कफन फाड़े जा रहे हैं। यह कैसा स्वच्छता अभियान है। यह मृतकों, धर्म और मानवता के प्रति अनादर दिख रहा है।

राज्य में बड़ी संख्या में रेत की कब्रों में दफन या गंगा नदी के किनारे पर बहे हुए शव मिलने के बाद राज्य सरकार की कड़ी आलोचना हुई है क्योंकि लोगों को इस तरह के दाह संस्कार का खर्च वहन करना मुश्किल हो गया है। प्रयागराज में, तस्वीरों में गंगा के किनारे रेत में दबे सैकड़ों शवों को दिखाया गया है। इसके बाद आस-पास के इलाकों में रहने वाले लोगों में दहशत फैल गई क्योंकि कई लोगों ने शिकायत की कि कुत्ते कब्र खोद रहे थे और नदी के किनारे शवों को खा रहे थे।

एक विदेशी समाचार एजेंसी द्वारा शूट किए गए एक ड्रोन फुटेज में सैकड़ों शवों को दिखाया गया है, जिन्हें बांस की छड़ियों से अलग किया गया है और भगवा कपड़े से ढका हुआ है, जो प्रयागराज में किनारे पर दफन हैं। आदित्यनाथ ने अधिकारियों से राज्य की सभी नदियों के आसपास राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल और प्रांतीय सशस्त्र कांस्टेबुलरी की जल पुलिस द्वारा गश्त जारी रखने के लिए कहा है और यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि किसी भी हालत में शवों को पानी में नहीं डाला जाए।

इस मुद्दे को हल करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार ने कहा कि वह नदियों में शव न फेंकने के लिए लोगों में जागरूकता पैदा करने के लिए धार्मिक नेताओं की मदद लेगी।

Leave a comment

Your email address will not be published.