Tamil Nadu News: बिहार में जहॉ कोरोना से हुए अनाथ बच्चों को हर महिना 1500 रु देनें कि घोषणा कि वहीं तमिलनाडु सरकार (Tamil Nadu Government) ने भी एक बड़ा फैसला लिया. कोरोना की दूसरी लहर (Corona second wave) में अपने माता-पिता को खो चुके बच्‍चों की मदद करने के लिए तमिलनाडु सरकार (Government of Tamil Nadu) के कदम. तमिलनाडु के मुख्‍यमंत्री एमके स्‍टालिन (MK Stalin) ने घोषणा की है कि अनाथ बच्‍चों या जिनके माता-पिता में से किसी एक की मौत कोरोना की वजह से हुई है उन्‍हें सरकार पांच लाख रुपये (5 lac Rupees) की सहायता देगी. इसके साथ ही राज्य सरकार ग्रेजुएशन तक उनकी शिक्षा का सारा खर्च भी उठाएगी. 10वीं 12वीं सब सरकार के नियंत्रन में होगा.

ये ख़बर पार्टी के एक आधिकारिक ने बताया उन्होनें कहा कि जिन बच्चों के माता-पिता कोरोना महामारी के दौरान दम तोड़ चुके हैं, उनकी पहचान करने और उन्हें सभी जरूरी मदद पहुंचाने के लिए जिला कलेक्टर के नेतृत्व में एक स्पेशल टास्क फोर्स का गठन किया गया है. ऐसे बच्‍चों की सुरक्षा के लिए मुख्‍यमंत्री ने सरकारी अधिकारियों को राहत देने का निर्देश दिया है. और इसके लिए स्पेशल टास्क फोर्स भी बनाया गया है ताकि बच्चों को कोई परेशानी न हो.

साथ ही आपको बता दें कि मुख्यमंत्री एमके स्‍टालिन ने वरिष्ठ अधिकारियों के साथ एक बैठक के बाद ये फैसला लिया है. विज्ञप्ति के मुताबिक, COVID-19 से मरने वाले व्यक्तियों के बच्चों को 5 लाख रुपये दिए जाएंगे. बता दें कि 18 साल की आयु होने पर बच्‍चों को ब्‍याज सहित पूरी राशि दे दी जाएगी. इसके साथ ही उन बच्‍चों के नाम पर भी 5 लाख रुपये जमा किए जाएंगे पहले ही अपने माता-पिता को खो दिया है. इसके अलावा जिन बच्चों ने अपने माता-पिता को खो दिया है, उन्हें सरकारी घरों और छात्रावासों में रहने की सुविधा उपलब्ध कराने में प्राथमिकता दी जाएगी. ऐसे बच्चों की देखभाल के लिए 18 वर्ष की आयु तक 3,000 रुपये (Three thousand rupees) का मासिक भत्ता प्रदान किया जाएगा, जिनकी देखभाल रिश्तेदार या अभिभावक कर रहे हैं. ताकि बच्चें का देखभाल अच्छे से हो और उन्हें किसी बात कि कमीं महसुस न हो.

Leave a comment

Your email address will not be published.