इसी साल पश्चिम बंगाल (West Bengal) में विधान सभा चुनाव होने है. इसके मद्देनज़र तमाम पार्टियाँ मैदान फ़तेह करने की तैयारियों में जुट गई है. फिलहाल चुनाव की तारीखों का ऐलान नही किया गया है. लेकिन माना जा रहा है कि जल्द ही निर्वाचन अयोग ( Election Commision) इस संबंध में सूचना जारी कर सकती हैं. तो आइये जानते हैं बंगाल विधान सभा चुनावी समीकरण के बारे में.

बंगाल चुनावी समीकरण

बंगाल विधान सभा में कुल 294 सीटें है. मगर चुनाव 292 सीटों पर ही होती हैं. बचे दो सीटों पर सदस्यों को मनोनीत किया जाता है. साल 2016 के विधानसभा चुनाव में जहां तृणमूल कांग्रेस (Trinamool Congress) ने जीत हासिल की थी और भाजपा को 10.16 फीसदी वोट के साथ सिर्फ 3 सीटें ही मिली थीं.

वहीं, 2019 आते-आते परिस्थितियां बदल गईं और लोकसभा चुनाव में भाजपा पश्चिम बंगाल की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी.बड़े बड़े राजनीतिक पंडितों के अनुसार भाजपा का बंगाल में पाँव जमाना नामुमकिन था. मगर पार्टी के जमीनी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने इन तमाम अनुमानों को अपने कामों से जवाब दिया है.

इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि 2014 लोकसभा चुनाव में भाजपा को 17 फीसदी वोट के साथ कुल 2 सीटें मिली थीं, लेकिन 2019 में न सिर्फ वोट प्रतिशत बढ़ा, बल्कि सीटें भी बढ़ गईं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए 2019 में पश्चिम बंगाल की 40.2 फीसद जनता ने वोट किया, जिसकी वजह से भाजपा को 18 सीटें मिलीं.

वहीं, टीएमसी ने 2014 में 34 सीटें हासिल की थीं और उसका वोट शेयर 39.7 फीसदी था. लेकिन 2019 में टीएमसी को 12 सीटों का नुकसान हुआ और 22 सीटें मिलीं. हालांकि, उसका वोट शेयर बढ़कर 43.3 फीसदी हो गया.

वर्तमान समय में किसके पास कितनी सीटें?

मौजूदा समय में टीएमसी (TMC) कुल 209 सीटें के साथ सत्ता की गद्दी पर काबिज है. कॉंग्रेस और लेफ्ट फ्रंट (LF) के पास 23-23 सीटें हैं .वहीं बीजेपी के खाते में 27 सीटें है.आपको बता दे बंगाल विधान सभा की 10 सीटें खाली हैं.

Leave a comment

Your email address will not be published.