क्या एक दुसरे पर निशाना लगा रहे TMC और BJP

सामाचार नगरी (पश्रिम बंगाल): BJP यानी की भारतीय जनता पार्टी के नेताओं का एक दल रविवार को कोलकाता में वहां के चीफ इलेक्टोरल ऑफिसर से मिला और मांग की कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की मेडिकल रिपोर्ट को सार्वजनिक किया जाए. बीजेपी के सांसद अर्जुन सिंह ने इस मुलाकात के बाद पत्रकारों को बताया कि ‘ममता बनर्जी ने पहले इसे हमला बताया, फिर एक्सीडेंट और आज उन्होंने रैली निकाली है. उनकी मेडिकल रिपोर्ट को सार्वजनिक किया जाना चाहिए, क्योंकि हमें शक है कि डॉक्टरों पर दबाव डाला गया था. हमे उनकी मेडिकल रिपोर्ट चाहिये’.

BJP नेताओं के दल ने CEO यानी की (chief electronics officer)को इस संबंध में एक चिट्ठी भी सौंपी. बीजेपी के राज्य इकाई की ओर से लिखे गए इस लेटर में कहा गया है कि ‘पॉलिटिकल माइलेज के लिए इस कथित हमले का फायदा उठाया गया है. भारतीय चुनाव आयोग ने अपनी रिपोर्ट में हमले की आशंकाओं को खारिज किया है. ऐसा लगता है कि तृणमूल कांग्रेस और इसके कैडरों ने मुख्यमंत्री को लगी कथित चोट, जो कि हमदर्दी बटोरने और राज्य में हिंसा भड़काने के लिए खुद से लगाई गई लगती है, का फायदा उठाने की कोशिश की है.’

साथ ही लेटर में यह भी कहा गया है कि हमले के लिए TMC की ओर से BJP पर आरोप लगाया जाना चुनावी आचार संहिता का उल्लंघन है और ‘यह जरूरी है कि यह सच सामने लाया जाए, जिससे कि ऐसी घटनाएं लोगों को धोखा देने और उनके मत के चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश फिर न करें.’ चिट्ठी में ये सारी बातें लिखी थी.

बीजेपी की ऐसी मांग तब आई है, जब ममता बनर्जी रविवार को ही कोलकाता के हाजरा में रोडशो कर रही थीं. बनर्जी हाथ जोड़कर लोगों का अभिवादन स्वीकार कर रही थीं जबकि सुरक्षाकर्मी उनके व्हीलचेयर को पकड़ कर आगे बढ़ा रहे थे. बनर्जी ‘नंदीग्राम’ दिवस के मौके पर मायो रोड से हाजरा मोड़ तक पांच किलोमीटर लंबे रोडशो में शामिल हुईं. तभी BJP कार्यकर्ताओं ने रिपोर्ट की मांग की.

Leave a comment

Your email address will not be published.