पिछले 15 दिनों से देश में कोरोना संक्रमण के मामलों में तेजी से इज़ाफ़ा हो रहा है. लोगों की लापरवाही और मनमानी इस बढ़ोतरी का मुख्य कारण हैं.

सरकार की तरफ़ से लगातार लोगों से मास्क पहनने और भीड़ में न जाने की अपील की जा रही है पर लोगों का तो छोड़ ही दीजिये खुद सरकार के नेता ही निर्देश मानने से इनकार कर रहे है.

ऐसा ही मामला गुजरात के वडोदरा से आया है, जहां महाशिवरात्रि के मौके पर भाजपा विधायक के साथ एक कार्यक्रम में सैकड़ों लोगों की भीड़ जमा हो गई. हालांकि, विधायक ने पूरी जिम्मेदारी से बचते हुए इसके लिए भगवान को ही जिम्मेदार ठहरा दिया.

दरअसल महाशिवरात्रि के मौके पर गुजरात के वडोदरा में सत्यम शिवम सुंदरम समिति की तरफ़ से बड़ा आयोजन रखा गया था. इसमें मंजालपुर सीट से विधायक योगेश पटेल भी पहुंचे थे. कार्यक्रम में विधायक जी के आने के बाद देखते ही देखते सैकड़ों लोगों की भीड़ जुट गई थी.

कोरोना के बढ़ते केसों के बीच बिना एहतियात के इस तरह की भीड़ जुटने को लेकर राज्य की भाजपा सरकार पर सवाल भी उठने लगे.हालांकि, योगेश पटेल ने न्यूज एजेंसी एएनआई से सफाई में कहा- “मैंने किसी को न्योता नहीं भेजा था.आखिर मैं कैसे इसके लिए जिम्मेदार हूं. इसके लिए भगवान जिम्मेदार है.”

बता दें कि गुजरात में कोरोना संक्रमण ने फिर रफ्तार पकड़ ली हैं. स्वास्थ्य विभाग पिछले 24 घंटो में राज्य में संक्रमण के 954 नये मामले सामने आए, जिससे संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 2,80,051 पर पहुंच गई.

साथ ही दो मरीजों की मौत हो गई जिसके बाद राज्य में अब तक कोविड-19 से मरने वालों की संख्या बढ़ कर 4,427 मरीजों की मौत हो गई है. स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक फिलहाल 4,966 मरीजों का इलाज़ चल रहा हैं जिनमें से 58 की हालत गंभीर हैं.

गौरतलब है कि कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए गुजरात सरकार की कोर कमेटी की मंगलवार को गांधीनगर में बैठक हुई थी. इसमें मुख्‍यमंत्री विजय रुपाणी ने 16 मार्च से 31 मार्च तक अहमदाबाद, सूरत, वडोदरा तथा राजकोट में रात 10 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू लगाने का फैसला किया.

सूरत के कंटेनमेंट जोन अठवा, रांदेर व लिंबायत में सिटी बस व बीआरटीएस को भी बंद रखा जाएगा. 16 मार्च से इन शहरों में रात 12 से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू लागू रहेगा.

Leave a comment

Your email address will not be published.