पश्चिम बंगाल में चुनावी बिगुल बज चुका है. तमाम राजनीतिक पार्टियाँ अपनी अपनी पकड़ मजबूत करने की रेस में लगी है.माना जा रहा है कि इस बार तृणमूल कांग्रेस (TMC) और बीजेपी के बीच कांटे की टक्कर होगी. लेकिन अब इस चुनाव में एक और नई पार्टी की एंट्री हो गई है. खास बात ये है कि ये पार्टी बीजेपी का बना बनाया ‘खेल ‘ खराब कर सकती है. दरअसल हिंदू समहति ( Hindu Samhati) नाम के एक संगठन ने एक नई पार्टी का ऐलान किया है. इस संगठन ने अपनी पार्टी का नाम “जन समहति” रखा है. इस पार्टी की नजर हिंदू वोटरों पर है. पार्टी ने ऐलान किया है कि वो बंगाल में कम से कम 170 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है.

हिंदू समहति ने अपना फाउंडेशन डे मनाने के साथ ही बंगाल में चुनाव लड़ने का ऐलान भी कर दिया. इस संगठन की पहुँच बंगाल के कई जिलों में है. खासकर बंगाल के दक्षिणी इलाकों में इसकी पकड़ खासी मजबूत है. आपको बता दे साल 2008 में इस संगठन की स्थापना तपन घोष ने की थी. साल 2019 लोक सभा चुनाव में संगठन ने BJP का समर्थन किया था पर उसके बाद से संगठन लगातार भाजपा के खिलाफ़ आवाज़ उठाती नज़र आ रही हैं. गौरतलब है कि घोष राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के पूर्व प्रचारक थे.

जन समहति के अध्यक्ष देवतनु भट्टाचार्य ने हिंदुस्तान टाइम्स से बातचीत करते हुए कहा, ‘हिंदू समहति एक स्वतंत्र संगठन के रूप में काम करती रहेगी. जन समहति को एक राजनीतिक दल के रूप में पंजीकृत किया गया है. हम उत्तर बंगाल में 40 और दक्षिण बंगाल में 130 सीटों पर चुनाव लड़ेंगे. अभी हमारे पास दूसरे दलों से गठबंधन की कोई योजना नहीं है. हमने 2019 के लोकसभा चुनावों में भाजपा का समर्थन किया था, लेकिन तब से लेकर अब तक हालात बदल गए हैं. बंगाल में सत्ता में आने पर आम लोगों को इसकी कीमत चुकानी पड़ती है. हिंदुओं ने भाजपा में अपना विश्वास खो दिया है.’

Leave a comment

Your email address will not be published.