UP ELECTIONS 2022: प्रयागराज की राम मंदिर होर्डिंग ने आखिर क्यों मचाया कोहराम?

0
UP ELECTIONS 2022
UP ELECTIONS 2022

योगिता लढ़ा, प्रयागराज। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 (UP Assembly Elections 2022) के नजदीक आते ही पूरे प्रदेश में गरमा गरमी का माहौल है। जनता की शिकायत है कि सरकार ने उनके लिए कुछ नहीं किया। बढ़ती महंगाई और बेरोजगारी के चलते हर वर्ग के लोगों को अपनी जीवनी में दिक्कत हो रही है। दूसरी तरफ केंद्रीय और विपक्षी सरकार दोनों अगले साल होने वाले चुनाव के चलते जनता को अपने काम गिनवा रहे हैं। अयोध्या में बन रहा रामलला के लिए भव्य राम मंदिर इस चुनावी खेल में एक सियासी मुद्दा बन चुका है। इसी का एक जीता जागता उदाहरण यूपी के प्रयागराज (Prayagraj) से आया है।

दरअसल भाजपा (BJP) सरकार की ओर से प्रयागराज में कई जगह होर्डिंग लगाए गए हैं। उन होर्डिंग के जरिए मानो ऐसा लग रहा है जैसे बीजेपी सरकार राम मंदिर बनाने का श्रेय खुद ले रही है। इस होर्डिंग में राम मंदिर के दो अलग-अलग दृश्य दिखाए गए हैं।

जानें क्या है पूरा मामला?
पहली होर्डिंग में भगवान श्रीराम को एक टेंट में दिखाया गया है। साथ ही इसके साथ एक दूसरा दृश्य है जिसमें रामलला को भव्य राम मंदिर में विराजमान दिखाया गया है। इस होर्डिंग के ऊपर की तरफ लिखा गया है “फर्क समझो”। वहीं सबसे नीचे बीजेपी का चुनाव चिन्ह “कमल का फूल” बनाया गया है। साथ ही इस होर्डिंग पर “सोच ईमानदार, काम ईमानदार” भी लिखा गया है। आपको बता दें ये होर्डिंग शहर के सोहबतियाबाग (Sohabatiya Bagh) समेत कई स्थानों में लगाए गए हैं।

क्या है विपक्षी दलों का कहना?
बीजेपी द्वारा ऐसी होर्डिंग लगाने के बाद समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के जिला अध्यक्ष योगेश यादव (Yogesh Yadav) ने सीधा भाजपा सरकार पर निशाना साधा है। प्रदेश सरकार पर आरोप लगाते हुए उन्होंने कहा है कि राम मंदिर का निर्माण सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों पर हो रहा है। साथ ही उन्होंने कहा है कि बीजेपी ने प्रदेश में कोई विकास नहीं किया है। ऐसी होर्डिंग लगाने के माध्यम से बीजेपी सरकार राम मंदिर का श्रेय खुद ले रही है। जैसे-जैसे चुनाव पास आएंगे ये सरकार ऐसे ही विवादित पोस्टर जारी करती रहेगी।

क्या है बीजेपी नेताओं का उत्तर?
होर्डिंग के विवाद के बाद बीजेपी नेताओं द्वारा ये कहा गया है कि राम मंदिर हमेशा से चुनाव का मुद्दा रहा है। राम मंदिर उनके लिए आस्था का प्रश्न है। जिस कारण से भगवान श्रीराम को छोड़ने का कोई सवाल ही पैदा नहीं होता।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here