Zero रिस्क पर बढ़ेगा आपका पैसा, ये है भारत के लोगों का पसंदीदा निवेश विकल्प

fd

निवेश का सबसे सुरक्षित माध्यम बन चुकी एफडी में आज भी बड़ी संख्या में लोग निवेश कर रहे हैं। ऐसा इसलिए की यहां आपके पैसे पर कोई रिस्क नहीं होता और एक समय बाद निश्चित ही रीटर्न मिलता है। यही वजह है की एफडी में निवेश करने वालों की संख्या काफी अधिक है। अगर आप भी अपने पैसे को बिलकुल सुरक्षित रखना चाहते हैं तो आज आपको ये आर्टिकल ध्यान से पढ़ना चाहिए।

क्या होती है एफडी

एफडी का मतलब है फिक्स डिपोसिट। इसे बैंक या फिर पोस्ट ऑफिस के माध्यम से किया जा सकता है। आप अपनी जरुरत के मुताबिक कितने भी समय के लिए एफडी कर सकते हैं। देखा गया है की पांच साल में पचास फीसदी और दस साल में सौ फीसदी तक का रीटर्न मिला है। सीधे शब्दों में कहें तो अगर आपने दस साल के लिए 100 रुपये का निवेश किया है तो दस साल बाद आपको 200 रुपये मिलेंगे, यानी की पैसा डबल।

खता खोलने की प्रक्रिया

अगर आपके पास बैंक में कोई खाता नहीं है तो सबसे पहले आपको उसे खुलवाना होगा, जिसके बाद एफडी फॉर्म भरना होगा। ये आपके नियमति खाते से ही जुड़ा होगा, एफडी के लिए अलग से खाता खुलवाने की जरुरत नहीं है। ऐसा ही पोस्ट ऑफिस में भी है, पहले नियमति खाता खुलेगा, फिर एफडी खाता।

ये भी पढ़ें: iQOO एंट्री ने मचा दिया भौकाल, OnePlus के छूटे पसीने

कितना ब्याज मिलता है

अमूमन ये देखा गया है की जो रकम आप बैंक या पोस्ट ऑफिस में एफडी के तौर पर जमा कर रहे हैं उसके बदले सात से आठ फीसद का रीटर्न मिलता है। इसमें उम्र के हिसाब से भी बदलाव हो सकता है, अगर आप बुजुर्ग हैं तो ज्यादा ब्याज मिल सकता है।

अन्य विकल्प

अगर आप अपने पैसे को थोड़ा और तेजी से बढ़ाने की सोच रहे हैं तो थोड़ा रिस्क लेकर SIP कर सकते हैं। यहां भी निश्चित समय के बाद रीटर्न मिल जाता है, लेकिन ये फील्ड रिस्क पर चलता है। यानी की अगर मार्केट उपर गया तो पैसा बढ़ेगा और अगर निचे गया तो घटेगा। हालांकि लंबी अवधि के लिए इसमें मुनाफा ही देखा गया है।

हर्ष पिछले 4 सालों से पत्रकारिता के क्षेत्र में काम कर रहे हैं। मूल रूप से हर्ष गोरखपुर के रहने वाले हैं। हर्ष इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के साथ साथ डिजिटल मीडिया का भी अनुभव रखते हैं फिलहाल समाचार नगरी में बिजनेस बीट पे काम कर रहे है। हर्ष बिजनेस के अलावा एंटरटेनमेंट, पॉलिटिकल, लेटेस्ट न्यूज, वायरल के साथ साथ धर्म बीट पर काम कर चुके हैं। इसके साथ ही हर्ष ने कई डिजिटल चैनल्स पर जमीन पर उतरकर रिपोर्टिंग भी की है।