PMFBY: किसानों को सरकार का तोहफा, फसल नुकसान होने पर भी मिलेगा पैसा

pmfby

प्राकृतिक आपदा से किसानों को होने वाले नुकसान से बचाने के लिए केंद्र सरकार की ओर से प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना की शुरुआत की गई थी, जिसके तहत कोई भी प्राकृतिक आपदा आने पर किसान भाइयों को उनकी फसल बिमा का लाभ दिया जाता है। इस योजना का लाभ आज देश के 36 करोड़ से अधिक किसानों को मिल चुका है।

क्या है प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना

प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना के तहत किसानों को फसल नुकसान होने पर आर्थिक सहायत दी जाती है, ये एक प्रकार से फसल का इंश्योरेंस है। जिसमें प्राकृतिक आपदा के बाद से नुकसान हुई फसल के बदले क्लेम मिलता है। आप भी बड़ी आसानी से इस योजना से जुड़कर लाभ प्राप्त कर सकते हैं। अगर आप नहीं जुड़ते हैं तो नुकसान होने पर कुछ भी हाथ नहीं लगेगा।

72 घंटे की समयसीमा

अगर आपकी फसल का नुकसान हुआ है तो 72 घंटे के भीतर अधिकारी को सूचित करना होता है। इसके साथ एक लिखित सूचना सम्बंधित विभाग में देनी होती है, ताकि क्लेम की प्रकिया को आगे बढ़ाया जा सके। अगर बिमा किसी प्राइवेट कंपनी से लिया गया है तो उसके एजेंट को सूचित करना होगा, ताकि वो आकर आपकी फसल का मुआयना कर सके।

ये भी पढ़ें: RBI ने जारी किया नया सर्कुलर, मिनिमम बैलेंस वालों को बड़ी राहत, नहीं कटेगा पैसा!

2016-17 में भुगतान

एक रिपोर्ट के मुताबिक वित्त वर्ष 2016-17 में सबसे अधिक 5550 करोड़ रुपए का आवंटन किया गया था, जोकि एक रिकॉर्ड है। ये क्लेम एक रिकॉर्ड समय के अंदर भी किया गया था और सत-प्रतिशत सफलता हासिल हुई थी।

आवेदन प्रक्रिया

अगर आप भी प्रधानमंत्री फसल बिमा योजना से जुड़ना चाहते हैं तो सबसे पहले इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा, जहां से सेल्फ अप्लाई का विकल्प चुनना होगा। इसके बाद आपसे अलग-अलग जानकारियां मांगी जाएंगी, जिसे भरने के बाद आपका रजिस्ट्रेशन हो जाएगा और आप भी किसी नुकसान की स्थिति में क्लेम के हक़दार होंगे।

हर्ष पिछले 4 सालों से पत्रकारिता के क्षेत्र में काम कर रहे हैं। मूल रूप से हर्ष गोरखपुर के रहने वाले हैं। हर्ष इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के साथ साथ डिजिटल मीडिया का भी अनुभव रखते हैं फिलहाल समाचार नगरी में बिजनेस बीट पे काम कर रहे है। हर्ष बिजनेस के अलावा एंटरटेनमेंट, पॉलिटिकल, लेटेस्ट न्यूज, वायरल के साथ साथ धर्म बीट पर काम कर चुके हैं। इसके साथ ही हर्ष ने कई डिजिटल चैनल्स पर जमीन पर उतरकर रिपोर्टिंग भी की है।