Government Pension Scheme: रिटायरमेंट की आयु के बाद मिलने वाली पेंशन मिले तो इससे काफी लोगों को राहत मिलती है। वहीं पेंशन पाने के सभी लोग हकदार नही होते हैं। कुछ योग्यताएं पूरी करने के लिए लोगों को पेंशन दी जाती है। हाल ही में पेंशन को लेकर सरकार की ओर से घोषणा की जा रही है कि इसका प्रभाव लाखों लोगों पर पडने वाला है। दरअसल पेंसन कोष नियामक पेंशन कोष नियमन एवं विकास प्राधिकरण ने कागज रहित प्रक्रिया को अधिक सुलभ बनाने को कहा गया है कि सरकार ने केंद्रीय KYC के द्वारा योजना का भाग बनने की कागजी प्रक्रिया पूरी की जा सकती है।

सेंट्रल केवाईसी: Government Pension Scheme

सरकार ने यह कहा कि सेंट्रल KYC के जरिए आवेदन कर्ता को अपने उपभोग्ताओं को जानों केवाईसी से जुड़ी प्रक्रिया केवल एक बार में ही पूरी करनी पडती है, और उसके बाद वह कई नियामकों के मातहत आने वाले तमाम वित्तीय संस्थानों के लिए आवेदन के लायक मान लिया जाता है।

डिजिटल एप्लीकेशन की सुविधा:

पेंशन कोष नियमन एवं विकास प्राधिकरण (PFRDA) की ओर से अंशधापरकों को पहले से ही डिजिलॉकर, पैन या बैंक खाते की डिटेल, आधार ईकेवाईसी के द्वारा दस्तावेजों से राष्ट्रीय पेंशन सिस्टम के जरिए डिजिटल एप्लीकेशन की सहुलियक दी गई है, जबकि अब कागज-रहित CKYC के द्वारा से NPS अकाउंट भी ओपन किया जा सकता है।

ऑथोरिटी बॉडी:

नियामक ने कहा है कि अब अंशधारकों को ऑनलाइन एवं कागज-रहित सीकेवाईसी के माध्यम से एनपीएस खाता खोलने का एक और विकल्प भी दिया जा रहा है। सीकेवाईसी का प्रबंधन भारतीय प्रतिभूतिकरण परिसंपत्ति पुनर्गठन एवं प्रतिभूति हित (केरसाई) करता है. यह केंद्र सरकार की तरफ से केंद्रीय केवाईसी रजिस्ट्री के तौर पर काम करने के लिए अधिकृत निकाय है।

जरुर पढ़े:- Royal Enfield को टक्कर देनें आ रही इस कंपनी की 4 बाइक्स, जानें कीमत और शानदार फीचर्स

आखिर 14 नवंबर को क्यों मनाया जाता है बाल दिवस? यहां जानिए कैसे कहलाए बच्चों के चाचा “पंडित नेहरू”

क‍िसानों की आय बढ़ाने के लिए व‍ित्‍त मंत्री का बड़ा ऐलान, लोगों में खुशी की लहर!