Astrology Facts ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुछ ऐसे पुण्य कार्य हैं, जो दुनिया में बहुत बड़ा नुकसान पहुंचा सकते हैं। . ज्योतिष शास्त्र में कुछ ऐसे योग हैं, जो बताते हैं कि हमें कौन सा शुभ कार्य नहीं करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: Mental Health Tips: पूरा दिन थका हुआ करते हैं महसूस तो हो सकते हैं ये बड़े कारण आज ही छोड़ दें ये काम

Astrology Facts: क्या करें क्या न करें

1: Astrology Facts यदि कोई ग्रह जो आपकी कुण्डली में उच्च का या ली है, तो उसे दान करने से आपको उस ग्रह से संबंधित हानी हो सकती है। उदाहरण के लिए यदि कुंडली में शनि उच्च का अर्थात तुला या मकर हो तो उस व्यक्ति को शनि से संबंधित दान, पुण्य और व्रत नहीं करना चाहिए।

2: यदि शनि अष्टम भाव में हो तो धर्मशाला या मुफ्त में रहने का स्थान नहीं बनाना चाहिए। इससे शनि देव आपके दुर्घटना का कारण बन सकते हैं।

3: लग्न में शनि हो और पंचम भाव में गुरु हो तो तांबे की वस्तु का दान नहीं करना चाहिए। अगर आप इन चीजों का दान करते हैं तो आपके बच्चे के लिए कुछ अशुभ हो सकता है।

4: यदि गुरु दशम भाव में हो और चन्द्र चतुर्थ भाव में हो तो जातक को मंदिर, गुरुद्वारा या धार्मिक स्थल का निर्माण नहीं करना चाहिए और न ही निर्माण में सहयोग के लिए दान देना चाहिए। ऐसा करने से आप झूठे आरोपों में फंसकर कोर्ट का चक्कर लगाते रहेंगे।

5: Astrology Factsयदि कुंडली में शुक्र नवम भाव में हो तो जातक को छात्रों या विधवाओं को आर्थिक सहायता नहीं देनी चाहिए। इससे आपका चढ़ता हुआ भाग्य फिर से मंजिल पर आ सकता है।

6:यदि चंद्रमा बारहवें भाव में हो तो जातक को नि:शुल्क शिक्षा के साथ विद्यालय नहीं खोलना चाहिए और संतों या संतों को भोजन नहीं कराना चाहिए अन्यथा अशुभ हो सकता है। घर से धन का आगमन समाप्त हो सकता है और घर की समृद्धि समाप्त हो सकती है।

7: यदि गुरु सप्तम भाव में हो तो उस व्यक्ति को मंदिर के पुजारी या ब्राह्मण को वस्त्र नहीं देना चाहिए। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपके घर में कलह हो सकती है और पत्नी-पत्नी के रिश्ते में खटास आ सकती है।

8: यदि किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली में चंद्रमा छठे स्थान पर हो तो उस व्यक्ति को कोई भी दान या दान कार्य नहीं करना चाहिए, अन्यथा वह कंगाल हो जाएगा। रोग, कर्ज, शत्रु उसे घेर लेंगे।

उपरोक्त ज्योतिषीय विश्लेषण का मतलब यह नहीं है कि आपको कभी भी दान, पुण्य और अच्छे कर्म नहीं करने चाहिए। दान-पुण्य करने से आपको केवल शुभ फल ही मिलते हैं, लेकिन कुछ लोगों की कुंडली में ऐसे योग होते हैं जो आपके लिए शुभ नहीं होते हैं। इन विशेष योगों के साथ उपरोक्त कार्य करने से आपको नुकसान हो सकता है। यही ज्योतिष की निशानी है। दान के लिए अन्य विकल्प भी अपनाए जा सकते हैं। ऐसे में किसी विशेषज्ञ से बात करना न भूलें।

यह भी पढ़ें: Dental Home Remedies: दांतों में है झनझनाहट की समस्या से हैं परेशान तो अपनाएं ये घरेलू उपाय

Disclaimer:

ये जानकारी धार्मिक मान्यताओं और धर्म निरपेक्ष मान्यताओं पर आधारित हैं, जिन्हें जनहित को ध्यान में रखकर ही प्रस्तुत किया गया है।