पंजाब: पंजाब के मोहाली में अकाली दल के मुख्या विक्रमजीत मिद्दुखेड़ा की गोली मारकर हत्या कर दी गई है। यह घटना शनिवार सुबह की है। पुलिस के मानें तो हमलावरों ने विक्रमजीत मिद्दुखेड़ा पर करीब 15 राउंड फायरिंग की और वहां से फरार हो गए। यह घटना मोहाली के सेक्टर 71 की बताई जा रही है। घटना के समय विक्रमजीत उर्फ ​​विक्की मिद्दुखेड़ा एक प्रॉपर्टी डीलर के कार्यालय में था और तब उस पर यह जानलवा हमला हुआ।

दरसअल, मोहाली इलाके में शनिवार को दिन के उजाले में अकाली दल के नेता विक्रमजीत सिंह मिड्दुखेड़ा की चार लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी। दरसअल, विक्की मटौर मार्केट पहुंचे और अपनी सफेद एसयूवी में बैठने ही वाले थे कि उन पर हमला हो गया। i20 कार में सवार 4 हमलावरों ने विक्की का पीछा किया और उस पर दो हमलावरों ने बिना रूके गोलियां बरसा दी। गोलियों की वजह से घायल होने के बाद यूथ अकाली दल के नेता ने अपनी जान बचाने के लिए आधे किलोमीटर की दोड़ लगाई और सेक्टर 71 में ही स्थित कम्युनिटी सेंटर के बाहर खुन से सना हुआ विक्की वहां गिर गया। इस घटना से इलाके में दहशत फैल गई।

सूचना मिलते ही एसएसपी सतिंदर सिंह, डीएसपी और मटौर एसपी मौके पर पहुंचे। वारदात के बाद फोरेंसिक टीम ने भी जांच शुरू कर दी है। पुलिस ने बताया है कि चार नकाबपोश लोगों ने कथित तौर नेता पर लगभग 15 गोलियां चलाईं और मौके से फरार हो गए। पुलिस हमलावरों की तलाश में जुट गई है और इस घटना का पता वारदात की जगह पर लगे सीसीटीवी कैमरे कि फुटेज से लगा।


पुलिस का कहना है कि आरोपियों को पहचान का पता लगाने के लिए इलाके के सीसीटीवी फुटेज को खंगालना शुरू कर दिया है। दिनदहाड़े हत्या के बाद जांच में खुलासा हुआ कि विक्की मिड्दुखेरा के पास उनकी कार में रिवॉल्वर भी थी, लेकिन उसे पलच कर वार करने का मौका नहीं मिला। पुलिस ने मुताबिक शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है और कार को भी कब्जे में लेकर कारवाई शुरू कर दी है। विक्की मिद्दुखेड़ा की हत्या और पूरी घटना के पीछे के कारणों का फिलहाल पता नहीं चल सका है। 

Leave a comment

Your email address will not be published.