तालिबान के विद्रोहियों द्वारा काबुल में राष्ट्रपति भवन पर नियंत्रण स्थापित करने के बाद, लोगों की भारी भीड़ काबुल हवाई अड्डे के टर्मिनल की ओर दौड़ पड़ी। अब तक हवाई अड्डे से कम से कम 5 लोगों की मौत की खबर सामने आ रही है, लेकिन अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि यह लोग गोलीबारी में मारे गए या भगदड़ में ।

(समाचार एजेंसी रॉयटर्स)- ने चश्मदीद गवाहों के हवाले से बताया कि सोमवार को काबुल हवाईअड्डे पर कम से कम पांच लोगों की मौत हो गई है, क्योंकि सैकड़ों लोग अफगानिस्तान की राजधानी छोड़ने वाले विमानों में सवार हो गए।

एक चश्मदीद ने समाचार एजेंसी को बताया कि उन्होंने पांच मृतकों के शवों को एक वाहन में ले जाते हुए देखा है। और दुसरे ने बताया कि यह स्पष्ट नहीं है कि वे लोग गोलीबारी में मारे गए हैं या भगदड़ में। इससे पहले, अमेरिकी सैनिकों ने काबुल हवाई अड्डे पर हवा में गोलियां चलाईं क्योंकि तालिबान के अधिग्रहण के बाद देश से बाहर जाने और विमानों में सवार होने के लिए हजारों अफगानों ने टरमैक पर भीड़ लगा दी।

यह भी पढ़ें- IIT बॉम्बे ने अफगान छात्रों को कैंपस में वापसी की दी इजाजत


अमेरिकी सैनिकों के हटने के बाद तालिबान के उग्रवादियों के बिजली की गति से राजधानी काबुल की ओर बढ़ने से अफगानिस्तान बड़े संकट में आ गया है। रविवार को तालिबान ने काबुल में प्रवेश किया और घंटों बाद उन्होंने परित्यक्त राष्ट्रपति महल पर कब्जा कर लिया। राष्ट्रपति अशरफ गनी ने पहले ही देश को छोड़ दिया हैं, जिसकी वजह से देश के भीतर और बाहर बहुत आक्रोश फैल गया है।


बाद में, अपने फेसबुक पेज पर एक पोस्ट में, गनी ने कहा कि उन्हें एक कठिन निर्णय का सामना करना पड़ा, जिसमें लाखों काबुल निवासियों का भाग्य और 20 साल के युद्ध के बाद शहर की सुरक्षा दांव पर लगी थी, जिसमें अनगिनत लोग पहले ही मारे जा चुके हैं।

यह भी देखें-

https://youtu.be/oUuNaLJD_pk

Leave a comment

Your email address will not be published.